Breaking

Monday, November 18, 2019

शासन ने स्कुलों में भेजी युआईड़ी कीट, फिर भी नहीं हो पायें सेंटर प्रारंभ

पेटलावद से राज मेड़ा की रिपोर्ट :-

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधीकरण यानी आधारकार्ड जनता व बच्चों के लिए बाधक नहीं बने इसलिए सरकार ने एक कवायद शुरू की थी, जिसके माध्यम से स्कुलों में हीं बच्चों के आधार कार्ड अपडेट, तथा नविन आधार कार्ड बनायें जा सकें, इसलिए बकायदा पेटलावद क्षेत्र के शिक्षकों को 15 दिन तक प्रशिक्षण दिया गया था, जिससे की बच्चों तथा अन्य लोगो के आधार कार्ड स्कुल में बनायें जा सके और बच्चों सहित उनके अभिभावकों को किसी भी प्रकार की परेशानियों का सामना ना करना पड़े, लेकिन सरकारी आदेशों की अव्हेलना करते हुए आज तक उक्त सेंटर शुरू नहीं कियें गयें है। सुत्रों के अनुसार लगभग 2 माह पहले से हीं भोपाल से पेटलावद विकासखण्ड़ के 16 सेंटरों में प्रत्येक सेंटर के लिए 1 लाख 30 हजार की सामग्री जिसमें लेपटॉप, फोटो कॉपी मशिन, युआईडी कीट भेजी गई थी, लेकिन स्कुलों में सेंटर अभी तक प्रारंभ नहीं हुए है। वहीं स्कुलों में पहुंचाई गई सामग्री का कोई अता-पता नहीं है की वह कहां पर रखी है, जबकि शासन द्वारा शिक्षकों को प्रशिक्षण दे दिया और स्कुलों में सामग्री भी पहुचा दी गई है फिर भी आज तक स्कुलों में सेंटर प्रारंभ क्यों नहीं कियें गयें है। 
         इस मामले में अधिकारी भी गोलमाल जवाब देते फिर रहे है, पेटलावद बीईओं राकेश कुमार गुप्ता से चर्चा की गई तो उन्होने बताया भोपाल से सामग्री आई थी जो हमनें स्कुलों में भेज दी है, सेन्टर प्रारंभ हुए है या नहीं इसकी जानकारी मुझे नहीं है। वर्तमान में स्कुली छात्रों के प्रोफाईल के लिए आधार की आवश्कता हो रहीं है, और जिन छात्रों के आधार कार्ड में त्रुटी है, उन्हें सुधरवाने का कहां जा रहा है जिस कारण बच्चों को पेटलावद मुख्यालय पर भटकना पड़ रहा है, यहां भी उनका काम समय पर नहीं हो पा रहा है। डाकघर व बैंक में आधार केन्द्रों का संचालन किया जा रहा है, जहां भी कई दिनों की मारामारी के बाद भी आधार कार्ड अपडेट नहीं हो रहे है, और ना हीं नयें बन पा रहे है। दिनभर लाईन के खडे रहने के बाद और अपनी पढ़ाई बर्बाद करने के बाद आधार नहीं बन पाता है। जिम्मेदार अधिकारियों कि लापरवाहीं के चलते शासन के आदेशों की अव्हेलना तो हो रहीं है साथ हीं स्कुली बच्चें आधार के लिए इधर-उधर अपने परिजनों के साथ भटकने को मजबुर हो रहे है। जिला सहायक आयुक्त प्रशांत आर्य ने चर्चा के दौरान बताया कि आधार कार्ड के लिए मशिनें सेंटरों पर भेज दी गई है, लेकिन एनआईसी आपरेंटींग करने वालों की कुछ नियुक्तियां करना शेष रह गई है, जो कि जल्द नियुक्तियां करने के बाद काम शुरू किया जाएगा।

Post a Comment

Post Top Ad