Breaking

Saturday, November 16, 2019

भुरिया को रोकने में जुटा विभाग और सत्ताधारी नेता सबका चहिता बना सब इंजिनियर

पेटलावद से अर्जुन  ठाकुर के साथ राज मेडा की रिपोर्ट

पेटलावद। यहा आरईएस विभाग में सब इंजीनियर के पद पर पदस्थ दिलीप भुरिया को शासन के नियमानुसार झाबुआ रवानगी करने के बात क्या हुई आरईएस विभाग के एसडीओ और सत्ताधारी दल के प्रभावी नेता भुरिया की रवानगी को रोकने में जुट गए जिसके बाद फिलहाल आरईएस के बड़े अधिकारी ने भुरिया की रवानगी पर रोक लगा दी ,मिली जानकारी के अनुसार एक क्लस्टर में एक इंजीनियर रहने के आदेश जारी हुए है। पेटलावद विकास खंड में 07 क्लस्टर हैं और इन कामों को देखने के लिए पेटलावद क्षेत्र में पर्याप्त कर्मचारी होने से सब इंजीनियर भुरिया को प्रशासकीय कार्य व्यवस्था के चलते झाबुआ भेजना था इसकी सूचना जैसे ही आरईएस के एसडीओ और सत्ताधारी नेता को लगी तो सभी भुरिया की रवानगी रोकने में जुट गए। करोड़ो के काम भुरिया के पास सुत्रों के अनुसार दिलिप भूरिया के द्वारा लाखों रूपयें की हेर फेर करते हुए जमकर शासन को नुकसान और आला अधिकारियों को फायदा पहुंचाने से सबका चहिता बना उक्त सब इंजिनियर को रोकने के लिए अधिकारी और राजनेता जुगत लगा रहे है। आरईएस का सब इंजीनियर भुरिया अपने विभाग और अधिकारियों का इतना खास हैं कि अकेले भुरिया के पास विभाग के करोड़ो के तालाब हैं और कोई सत्ताधारी नेताओं ने सेटिंग कर अप्रत्यक्ष रूप से तालाब निर्माण का ठेका ले रखा है , इन सब के साथ मिल कर भुरिया शासन को चुना लगा रहा है  और अपने राजनितिक रसुख और मिलीभगत के प्रभाव के चलते भुरिया ने अधिकारियों पर अपने पक्ष वाले नेताओं के माध्यम दबाव बना रहा है, और पुरा सरकारी तथा राजनितिक अमला इंजिनियर के स्थानांतरण को रोकने की जुगत लगा रहा है।

Post a Comment

Post Top Ad