Breaking

Saturday, December 28, 2019

सीएम हेल्पलाइन में 181 पर एक माह पहले शिकायत की थी लेकिन सीएम हेल्पलाइन द्वारा शिकायत का कोई निराकरण नहीं किया गया

पेटलावद से हरिश  राठौड़ की रिपोर्ट

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत बना करडावद रामगढ़ करवड दूरी लगभग सात किलोमीटर विभाग की अनदेखी के कारण मार्ग जर्जर अवस्था में, बड़े-बड़े गड्ढे एवं गांव में जल निकासी के अभाव में सड़क पर पानी फैला रहता है वहां पर भी बड़े गड्ढे होने के कारण बार-बार वाहन चालक दुर्घटनाग्रस्त हो रहे हैं। विभाग की अनदेखी के कारण मार्ग में प्रतिदिन दुर्घटनाएं हो रही है। और किसी दिन भी बड़ा हादसा हो सकता है
इस मार्ग पर करडावद से ही समस्याएं शुरू हो जाती है  जहां पर बड़े-बड़े तीखे पत्थरों के कारण वाहन दुर्घटनाग्रस्त होते हैं बड़े-बड़े पत्थरों के बीच वाहन चालकों को अपने वाहन निकालने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है और हमेशा दुर्घटना का भय बना रहता है एवं रामगढ़ घाटी के नीचे अंधे मोड़ में भी बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं वहीं रामगढ़ एवं देहण्डी के बीच कई जगहों पर बड़े बड़े गहरे गड्ढे होने के कारण वाहन चालकों को वाहन ओवरटेक करते समय भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है जिससे कई बार वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो जाता है वहीं 10 मिनट का रास्ता तय करने में लगभग आधा से पौन घंटा लग जाता है।
     इसी के संबंध में ग्रामीणों  द्वारा सीएम हेल्पलाइन नंबर 181 पर भी मार्ग पर बड़े-बड़े गड्ढे के कारण दुर्घटना को लेकर शिकायतें दर्ज करवाई गई लेकिन उसके बाद भी विभागीय अधिकारियों का इस ओर कोई ध्यान नहीं गया। एवं समस्या जस की तस बनी हुई। विगत दिनों जब इस मार्ग के रखरखाव के लिए विभागीय कर्मचारीयों द्वारा साइड पट्टी से घास पुस को उखाड़ने के लिए 3-4 घंटे जेसीबी चलाई गई एवं कुछ मजदूरों द्वारा झाड़ियों काटने का एवं पुल पुलिया का रंग रोगन किया गया लेकिन मार्ग पर बड़े-बड़े गड्ढों की ओर किसी का ध्यान नहीं गया। जिससे बड़े-बड़े गड्ढे यथावत बने हुए हैं।
करडावद-करवड़ मार्ग सबसे व्यस्ततम मार्ग है जो कि झाबुआ-आलिराजपुर से लेकर ठेट रतलाम होते हुए नीमच मंदसौर तक जाने के लिए इसी मार्ग में उपयोग किया जाता है जिससे प्रतिदिन अधिकारी कर्मचारियों एवं किसानों की फसल सब्जी टमाटर आदि राजस्थान तक मंडियों में पहुंचाने के लिए इसी मार्ग का उपयोग किया जाता है एवं इसी मार्ग पर दर्जनों स्कूली बसों के माध्यम से सैकड़ों बच्चे पढ़ाई करने के लिए पेटलावद तहसील स्तर तक पहुंचाते हैं।

सीएम हेल्पलाइन का भी असर नहीं

रामगढ़ के ग्रामीण मुकेश मालवी ने बताया की मैंने इस मार्ग को लेकर सीएम हेल्पलाइन में 181 पर एक माह पहले शिकायत की थी लेकिन सीएम हेल्पलाइन द्वारा शिकायत का कोई निराकरण नहीं किया गया एवं शिकायत निरस्त की गई। फिर से शनिवार को मेरे द्वारा 181 पर शिकायत की गई है।

आए दिन होते रहते हैं हादसे।

सरपंच गांव के उपसरपंच हरीश चंद्र पाटीदार ने बताया कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क विभाग की लापरवाही के कारण बड़े-बड़े गड्ढों में तब्दील हो चुका है, जिससे आए दिन मोटरसाइकिल सवार गिरकर हादसे का शिकार हो रहे हैं विभाग शीघ्र ही इस रास्ते का दुरुस्ती करण करें।

 स्कूली बच्चों के समय की बर्बादी

 स्कूली बच्चों के पालकों का कहना है कि मार्ग के खस्ताहाल के कारण बच्चों का अधिकतर समय रास्ते में ही गुजर जाता है जिससे उनकी पढ़ाई बाधित हो रही है एवं जब बच्चे बसों द्वारा स्कूल से घर आते हैं तो थके हारे सो जाते हैं एवं पढ़ाई नहीं कर पाते हैं एवं कुछ दिनों बाद बच्चों की वार्षिक परीक्षाएं शुरू होने  वाली है जो कि बच्चों के भविष्य का सवाल है।

बरसों पुराना मार्ग अधिक ट्रैफिक के कारण जर्जर

जनपद सदस्य तेजुमल सोलंकी देहण्डी ने बताया कि मार्ग वर्षों पूर्व बना था जो कि अब आवागमन अधिक होने के कारण सड़क पर बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं इस कारण वाहन चालकों एवं ग्रामीणों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है मार्ग का जल्द से जल्द दुरुस्त किरण किया जाए।

 ग्रामीणों द्वारा आंदोलन की चेतावनी।

लाखनसिंह सिसोदिया, सुरज कोरट, नारायण गोदा देहण्डी, ओमप्रकाश पाटीदार, अंकीत मैडा, सुरेश पाटीदार, कृष्णा पटेल, अर्जुन पाटीदार, शम्भुलाल ताड़ आदि ने बताया की मार्ग की स्थिति  बहुत ही दयनीय हो चुकी है  जिससे प्रतिदिन 1-2 दुर्घटनाएं हो रही है  अगर विभाग द्वारा एक-दो दिन में मार्ग की सुध नहीं ली गई एवं मार्ग के बड़े-बड़े गड्ढों को भरने का काम नहीं किया गया तो हमारे द्वारा  मार्ग के खस्ताहाल को लेकर उग्र आंदोलन किया जाएगा


----------------//////////

समाचार एवं विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें
🤳राज मेड़ा  7049735636
हरिश राठौड़ :- 99816 05033

Post a Comment

Post Top Ad