Breaking

Monday, December 9, 2019

दोपहर में आई युरिया की खेप और दोपहर में हीं हो गई खत्म कई किसान लोट खाली हाथ

 पेटलावद से राज मेड़ा की रिपोर्ट :-

पेटलावद युरिया खाद के लिए इन दिनों घमासान मचा हुआ है, खाद के अभाव में किसानों की फसले चोपट हो रहीं है लेकिन किसानों के हितों की बात करने वाली कमलनाथ सरकार किसानों के लिए युरिया की व्यवस्था भी नहीं कर पा रहीं है, किसानों का कहना है कि वर्तमान की कांग्रेस सरकार में किसान पुरी तरह हताष हो रहे है, हमें न तो समय पर बिजली उपलब्ध हो रही है और ना हीं फसलों के लिए खाद मिल पा रहा है, सुबह 6 बजें इतनी ठण्ड होने के बाद भी खाद के लिए लाईन लगाई और शाम को फिर हमें खाली हाथ घर लोटना पड़ रहा है। युरिया को लेकर किसानों में हाहाकार मचा हुआ है, दिन भर की जद्दोजहद के बाद भी उन्हें समय पर युरिया नहीं पा रहा है। क्षेत्र के किसान आदिम जाति सेवा सहकारी संस्था पर युरिया खाद के इंतजार में सुबह 6 बजें से हीं लाईन लगाकर बैठे रहे और शाम को उन्हें खाली हाथ हीं लोटना पड़ा। सोमवार को दिन में खाद की खेप तो आई लेकिन आधे किसानों को
हीं खाद नसीब हो सका, दोपहर में हीं खाद खत्म हो चुका था, जिससे कई किसान नाराज होकर घर लोटे। किसानों ने खेतो में फसले बो दी है और पानी की व्यवस्था भी हो चुकी है, लेकिन खाद की कमी बिच में रोड़ा बन रहीं है, सरकारी स्तर से किसानों को युरिया नहीं मिलने से उन्हें मजबुरन व्यापारियों से अधिक दाम पर युरिया खरीदना पड़ रहा है। बाजार मुल्य से अधिक 350 से 400 रूपयें व्यापारियों द्वारा किसानों से वसुले जा रहे है, ऐसे में किसानों को भी मजबुरन अधिक पैसा देकर खाद लेना पड़ रहा है। सरकारी रेट में जो खाद किसानों को मिलता है तो वहीं व्यापारी उससे अधिक दाम किसानों से वसुल रहे है।
क्यां कहना है किसानों का.....
किसान शंभु हटिया निवासी मोईवागेली ने बताया कि में आदिम जाति सेवा सहकारी संस्था पेटलावद पर सुबह 7 बजें से लाईन में लगा लेकिन शाम होने के बाद भी मुझे खाद नहीं दिया गया है, मेरे द्वारा पुछने पर बताया कि खाद खत्म हो गया है।
किसान देवीसिंग मैड़ा निवासी दुलाखेड़ी ने बताया कि किसानों को खाद और बिजली की आवश्यकता है, लेकिन दोनो हीं वर्तमान में नहीं मिल रहा है, किसान सुबह से भुखे प्यासें खाद के लिए लाईन लगा रहे है, किन्तु फिर भी कांग्र्रेस सरकार किसानों को खाद उपलब्ध करवाने में असफल रहीं है।
किसान मांगु निवासी मोईवागेली व बाबु कटारा झोसर ने बताया कि फसलों में खाद की सख्त आवश्यकता है, दो दिनों से हम खाद के लिए भटक रहे है, किन्तु खाद नहीं मिला, आज भी सुबह से लाईन में खडे रहे किन्तु दोपहर में हीं खाद खत्म हो गया था।



Post a Comment

Post Top Ad