Breaking

Tuesday, December 17, 2019

दुरूख मिटाने का सच्चा उपाय है संयम ग्रहण करना है...... दीक्षा लेकर संयम का पालन और पुरुषार्थ करेंगे तो सभी प्रकार के दुरूख खत्म होने वाले है... मुमुक्षु आयुषी गाँधी के दीक्षा महोत्सव अवसर पर आयोजित हुई धर्मसभा.....

पेटलावद  से हरीश राठौर के साथ राज मेड़ा की रिपोर्ट

पेटलावद। दीक्षा महोत्सव के अवसर पर स्थानक भवन में आयोजित धर्म सभा में आगम विशारद बुद्ध पुत्र प्रवर्तक जिनेन्द्र मुनिजी ने कहा संसार में दुरूख इतने है की कागज लेकर लिखने बैठे तो डायरिया भर जायेगीएसंसार में जन्म का दुरूख है मरण का दुरूख है बुढ़ापे का दुरूख है रोग का दुरूख हैए आश्चर्य है की ऐसे अनेक दुरूखो से जीव दुखी है दुरूख पा रहा है और फिर भी संसार में लिप्त है। दुरूख को सहन करने का जीव को अभ्यास हो गया है वह उसे मिटाने का उपाय नहीं करता है दुरूख मिटाने का सच्चा उपाय है संयम ग्रहण करना और इन्ही दुरूखो को मिटाने को तत्पर बनी है मुमुक्षु आयुषी गाँधी भगवान ने दुरूख मिटाने का उत्तम मार्ग संयम मार्ग बताया है दीक्षा लेकर संयम का पालन और पुरुषार्थ करेंगे  तो सभी प्रकार के दुरूख खत्म होने वाले है।
      आपने कहा की संयम का मार्ग परम सुख का मार्ग है और भगवान ने इसे एकांत सुख का मार्ग ही बताया है संसार के दुखों को जानकर सुख पाने का हमे गोल्डन चांस मिला है की प्रबल पुरुषार्थ कर हम संयम पथ पर आगे बढे । दीक्षार्थी बहन की दीक्षा की अनुमोदना करते हुए हमको भी संयम के भाव रखकर वर्तमान में धर्म आराधना में बढ़ोतरी करना है मोक्ष मार्ग के नजदीक पहुचने का यही रास्ता है। धर्म सभा में संत धर्मेन्द्र मुनिजी ने कहा की बारह भावनाओ का चिन्तन करने से कषाय खत्म हो जाते है अपने विचारों को मोड़ देना जरूरी है विचार सही दिशा में मुड़ गये तो समाधी का अनुभव हो जाता है मैत्री भावना को रखने से सभी जीवों के प्रति ईर्ष्या खत्म हो जाती है और मन का इलाज होने पर सभी साधनाए सरल हो जाती है । प्रशंषा और निंदा राग द्वेष जगाती हे हमे मन पर्याय ज्ञान अवधि ज्ञान नहीं केवल ज्ञान पाना है। धर्मसभा में महासती किरणबाला जी स्तवन की प्रस्तुति दी। धर्म सभा में संघ सचिव नीरज मूणत पूर्व संघ अध्यक्ष शान्तिलाल चाणोदिया ने दीक्षार्थी आयुषी गाँधी के प्रति अपने अहो भाव व्यक्त किये।
    स्वाध्याय संघ के अध्यक्ष भरत भंसाली ने थांदला संघ की और से विभिन्न विनती या प्रवर्तक श्री के सन्मुख रखी बामनिया संघ के अध्यक्ष विमल मुथा ने बामनिया में बड़ी दीक्षा की विनती रखी। धर्मसभा में बालिका मंडल ने समूह गान गाया गया। दिव्यांशी परिधि सिद्धि स्मृति ममता कविता दिव्या पल्लवी रूपाली गुगलिया एवं सिद्धि जैन ने अलग अलग स्तवन की प्रस्तुति दी।
महासती धैर्य प्रभा जी आदि ठाणा ३ का भी मंगल प्रवेश हुआ।
मुख्य रूप से इस समारोह में पंजाब होशियारपुर, दाहोद, लिमडी, संजेली और बदनावर, रतलाम,इंदौर, जीरण, भूसावल, बडनगर, झाबुआ, कल्याणपुरा, थांदला, बामनिया, रायपुरिया, कुशलगढ, बाजना, खवासा, सारंगी, टेमरिया, रूपगढ, बरवेट, जामली, हमीरगढ, करवड, करडावद आदि जगहों की २५०० से अधिक लोगों की भागीदारी रही।
-झलकियां-
  • - समग्र जैन समाज ने अपनी एकता और धार्मिक भावना का परिचय देते हुए बडी संख्या में उपस्थिति दर्ज करवाई।
  • - दीक्षार्थी परिवार व कल्याणपुरा श्री संघ की महिलाएं व पुरूष एक रंग के पहनावे में अलग ही दिख रहे थे।
  • - महिलाओं ने भारी भरकम चुन्नी ड्रेस धारण इस अवसर पर किया था।
  • - पुलिस बल व नगर परिषद पूरी मुस्तैदी से व्यवस्थाएं संभाले हुए थे।
  • - बडनगर के बैंड और पेटलावद के ढोल ने शोभायात्रा में खुब रंग जमाया।
  • - नवयुवक व बालिका मंडल उत्साह पूर्वक नाच गाना कर अपनी खुशियां व्यक्त कर रहे थे।
  • - पेटलावद के सभी जैन समाज के श्री संघों के पदाधिकारी, नवयुवक मंडल, बालिका मंडल, बहू मंडल ने पूरी शोभायात्रा में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई जो विशेष उपलब्धि थी।
बुधवार को प्रातरू ८.३० बजे कांतिलाल अंकित कुमार मुरार परिवार के निवास से दीक्षार्थी आयुषी बहन गांधी की महाभिनिश्क्रमण (दीक्षा) यात्रा प्रारंभ होकर दीक्षा स्थल उदय गार्डन पर पहुंचेगी। जहां प्रवर्तकश्री जिनेंद्रमुनिजी दीक्षा का पाठ पढाएगें। इस अवसर पर पांच हजार से अधिक श्रृद्धालु पहुंचेगें।

--------------------/////

समाचार विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें

राज मेड़ा :-7049735636

हरीश  राठौड़ :-99816 05033



Post a Comment

Post Top Ad