Breaking

Monday, January 20, 2020

थाने की जमीन पर वर्षो से अवैध कब्जा। आमजन का सवाल क्या हटेगा अतिक्रमण ?

पेटलावद से हरिश राठौड की रिपोर्ट

पेटलावद में थाना परिसर की भूमि का बडा भाग अनेक वर्षो से भू माफियाओं के कब्जें में है। जिसे पेटलावद पुलिस की पहल पर राजस्व विभाग के अमले ने सीमांकन कर चिन्हीत करते हुए उजागर किया। प्रशासन की इस कार्रवाई से भूमाफियाओं में हडकंप है। वहीं आमलोग इस कार्रवाई को लेकर प्रसन्नता व्यक्त कर रहे है। ओर प्रशासन से अपेक्षा करते है। जिस तरह से झोपडियां और गुमटियां हटाई गई वैसे ही इन धनिकों के पक्के निर्माण भी हटाए जाएगे। सोमवार को स्थानीय पुलिस थाने के आसपास की जमीन का सीमांकन किए जाने के लिए राजस्व विभाग से गठित दल पूरे तामजाम सहित सीमांकन करने के लिए मौके पर पहुंचा। तो पूरे पेटलावद नगर के लोगों की आंखे हतप्रद रह गइ्र्र जब दल के द्वारा पुलिस थाने की शासकीय जमीन की सीमाएं मुख्य मार्ग पर बने हुए केफे हाउस ,श्री पार्श्व की जेनेटीक्स बीज फेक्ट्री  व बरबेटा कालोनी बने हुए कई मकान,सालों से खडा हुआ मोबाईल टावर और कई पक्के बने हुए मकान इस जमीन की सीमाओं में आए है।

क्या है मामला।

पुलिस थाना पेटलावद के द्वारा विभागीय कार्यवाही व अनुमति लेते हुए तहसीलदार पेटलावद को पटवारी हलका नंबर 7 में स्थित भूमी सर्वे नंबर 1943,1946,1949 का कुल रकबा 1.06 हेक्टयर की भूमी का सीमांकन किए जाने का आवेदन दिया था जिस पर से तहसीलदार पेटलावद द्वारा राजस्व विभाग के 6 सदस्य जिसमें रामसिंह मचार राजस्व निरीक्षक वृत-3,रविंद्र नर्गेस राजस्व निरीक्षक वृत-1, दुलेसिंह सिंगाड हल्का पटवारी,रामलाल भाभर,श्यामपालसिंह चद्रावत शामिल थे। जिन्होंने सोमवार को 1949 और 1946 सर्वे नंबरों का मौके पर जा कर सीमांकन किया। उल्लेखनीय है कि यह दोनो सर्वे नंबर राजस्व रेकार्ड में पुलिस थाना को आवंटित है।

थाना प्रभारी की सजगता से हुआ खुलासा।

बरसो थाने की जमीन पर धीरे धीरे कब्जा करते हुए पक्का व अवैध निर्माण कर लिया है पुलिस थाना पेटलावद को कर्मचारियों के आवास एवं कई प्रकार की आवश्यकताओं के लिए भूमि की जरूरत होने से पेटलावद के थाना प्रभारी के द्वारा राजस्व के रेकार्ड की जानकारी निकाली तो उन्हें पता चला की थाना मद के नाम से बहुत सारी जमीन रेकार्ड में तो दर्ज है। तब पुलिस थाने के नाम की जमीन की सही दिशाओं व सीमाओं की जानकारी निकालने के लिए सीमांकन की कार्रवाई की गई।

क्या हटेगा कब्जा?

सीमांकन के समय मौके पर बडी संख्या में नगर वासी एकत्रीत हो गए थे और राजस्व विभाग का दल जब इन बडे व पक्के निर्माण कार्यो को थाने की जमीन के रूप में बताते हुए मौके पर पंचनामा बना रहा था तब प्रत्यक्ष दक्षियों का यह मानना था की इतनी बडी सरकारी और वह भी थाने की जमीन पर भूमाफियाओं ने कब्जा किया क्या प्रशासन व पुलिस थाना इनसे अपनी जमीन मुक्त करवा सकेगा।
लोगों ने यह आश्यर्च भी व्यक्त किया कि भूमाफियां शासकीय जमीन पर कब्जा जमाए बैठे थे तो बडे ओदेदारों की नींद क्यों नहीं खुली। पुलिस ही भूमाफियों के कब्जें से अपनी जमीन नहीं बचा सकी तो छोटे मोटे आदमी की क्या बिसात। जो सरकारी जमीन पर अवैध कब्जें हटवाने के लिए कुछ बोल सके।इससे अंदाज लगाया जा सकता है कि भू माफियाओं के हाथ कितने लंबे है।
इस संबंध में दल प्रभारी रामसिंह मचार ने बताया कि तहसीलदार पेटलावद के आदेश अनुसार गठीत दल द्वारा सीमांकन कर पंचनामा बनाया गया है। जिसकी रिपोर्ट तहसीलदार को प्रस्तुत की जावेगी।
इस संबंध में थाना प्रभारी दिनेश शर्मा ने बताया कि पुलिस थाना मद की जमीन का सीमांकन करवाया है। नियमानुसार कार्रवाई करने हेतु प्रशासनीक व वरिष्ठ अधिकारियों की अनुमति के बाद अतिक्रमण हटाया जाएगा।

----------------///////

समाचार एवँ विज्ञापन के लिए संपर्क करे

राज मेड़ा- 7049735636

हरिश राठौड - 99816 05033

Post a Comment

Post Top Ad