Breaking

Monday, January 6, 2020

आवारा मवेशियों को कांजी हाउस में भेजें.. एसडीएम ने सीएमओं को किया निर्देशित.... कांजी हाउस पर दंबगों का कब्जा...क्यां होगी कार्रवाई....

पेटलावद से हरिश राठौड  की रिपोर्ट 

पेटलावद। नगर में घुम रहे मवेशियों को तत्काल कांजी हाउस में भेजने के लिए अनुविभागीय अधिकारी ने नप. सीएमओं को निर्देशित किया है। बता दे कि नगर परिषद की लापरवाहीं के चलते नगर में मवेशी आम रोड़ तथा नगर की गलियों में घुमते है, जिसके कारण कई बार हादसे भी हो चुके है। सोमवार को एसडीएम एमएल मालवीय   ने पत्र जारी किया है और बताया कि लगातार आवारा मवेशियों के कारण लोग घायल हो चुके है। नगर परिषद मामले को लेकर उदासिनता बरत रहीं है जिसको लेकर जल्द हीं एसडीएम ने कार्रवाई करने की निर्देश दियें है।
कांजी हाउस नदारत...

एसडीएम एमएल मालवीय द्वारा नगर परिषद को आवारा घुम रहे मवेशियों को कांजी हाउस में रखने के लिए पत्र तो जारी कर दिया है लेकिन इस पत्र का कितना असर नगर परिषद पर होता है यह तो आने वाला समय हीं बतायेंगा क्योंकि मवेशियों को रखने के लिए नगर परिषद के रेकार्ड में वर्षो पूर्व दर्ज कांजी हाउस भवन को स्थानिय भूमाफियाओं की मिली भगत के चलते काफी समय पूर्व हीं इस कांजी हाउस को तोड़कर नगर के एक व्यवसायी द्वारा अपना गोडाउन बना दिया है और कांजी हाउस के स्थान पर उक्त व्यवसाय का गोडाउन मौके पर खड़ा है,

नगर परिषद कर रहीं खण्डन.....

मौके पर बने हुए गोडाउन को साफ तोर पर इंकार करते हुए नगर परिषद के द्वारा जानकारी देते हुए बताया जा रहा है कि पुराने कांजी हाउस पर वर्तमान में दुकाने बनी हुई है और निकाय द्वारा कोई गोडाउन नहीं बनाया गया है।

कब और केसे बनी दुकानें....


सीधे सीधे आम जनता की आंखो में धुल झोंक रहीं नगर परिषद से नगर के जिम्मेदार लोग अब इस बात को लेकर प्रश्न पुछ रहे है कि पुराने कांजी हाउस को तोड़कर दुकानें बनाने की बात लिखित में की जा रहीं है उसका प्रस्ताव कब और किसने बनाया क्योंकि मोके पर दुकान नहीं गोडाउन बना हुआ है।

टुटे अवैध गोडाउन....

इस अवैध अतिक्रमण की शिकायत स्थानीय नागरिकों व जनप्रतिनिधियों व मिडिया के माध्यम से एसडीएम से लेकर मुख्यमंत्री तक हो चुकी है लेकिन अपने चहेतो पर कोई कार्रवाई नहीं करने की कसम खा चुकी स्थानीय वर्तमान नगर परिषद की कान पर जुं तक नहीं रेंग रहीं है। अब एसडीएम द्वारा जारी पत्र से नगर परिषद के जिम्मेदार अधिकारी मवेशियों को कहां रखेंगे यह लोगो में जन चर्चा का विषय है। एक तरफ फिर से जनप्रतिनिधियों व जनता के द्वारा कांजी हाउस के स्थान पन बनायें गयें गोड़ाउन को तोड़कर फिर से कांजी हाउस बनाने की मांग प्रबल होती दिखाई दे रहीं है। देखना यह है कि छोटे गरीबों के आशियानें पर मशिन चलाने वाला प्रशासन बडों पर कब कार्रवाई करता है।
--------------------/////

समाचार एवं विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें
🤳राज मेड़ा  7049735636
हरिश राठौड़ :- 99816 05033


Post a Comment

Post Top Ad