Breaking

Saturday, February 29, 2020

एक गंगा मॉ हैं तो दूसरी श्रीमद्भागवत कथा:शीतल दीदी - ग्राम करवड में सात दिवसीय भागवत कथा का समापन पेटलावद।


पेटलावद से हरिश राठौड़ की रिपोर्ट

श्रीमद् भागवत कथा क्या सातवें दिन श्री सुखदेव महाराज द्वारा गंगा के किनारे कलकल करती सुंदर लहरें व सुंदर किनारे के दर्शन कर राजा परीक्षित को कहा कि हे राजा मैं तुम्हें एक और गंगा स्नान करा रहा हूं एक गंगा तो यह है दूसरी श्रीमद्भागवत गंगा दोनों गंगा कल्याणकारी पावन कार्य मुक्ति दिलाने वाली है।
यह बाते भगवत कथा वाचक शीतल दीदी ने ग्राम करवड में चल रही भागवत कथा के दौरान कही। शीतल दीदी ने कहा मनुष्य जीवन अत्यंत दुर्लभ है, व्यक्ति किसी भी जाति वर्णन में बटा है लेकिन एकमात्र कर्म प्रधान है। कर्मों से ही व्यक्ति की पहचान है, हमारा शरीर हमें किस काम के लिए मिला यह सोचन आवश्यक हैं कि मनुष्य जीवन दुर्लभ है। अनेक जीव जंतु योनि में जाने के बाद भगवान ने कुछ पाप सूक्ष्म कर क्षमा करते हैं। मनुष्य जीवन मिला लेकिन जिनके निच कर्म मद्यपान, जुआ, हिंसा, पर स्त्री यह सब कलयुग के वास है। शास्त्र यह नहीं कहता भारतीय संस्कृति नही कहती। सृष्टि रचयिता भगवान खुद ने इस पृथ्वी पर अवतार लिया राम अवतार, कृष्ण अवतार के रूप में इस मनुष्य को उपदेश देने के लिए।

वंदे मातरम मित्र मंडल ग्राम के सहयोग से कथा का आयोजन-
भगवत कथा वाचक शीतल दीदी रामायण के साथ संत महामंडलेश्वर गणेशानंदजी महाराज व सत्यमजी महाराज व श्रोता अतिथि पूर्व विधायक निर्मला भूरिया व कुशलगढ़ पूर्व विधायक पूर्व मंत्री भीमा डामर, कुशलगढ़ के संत हेमंतजी पांडियाको, गोदडीया आश्रम संत 1008 प्रेमानंदजी, सारंगी सरपंच फुदीबाई व रतलाम जिले से आए कई श्रोता अतिथि का स्वागत वंदे मातरम मित्र मंडल और ग्रामीणों की ओर से किया गया। हरिद्वार कुंभ मेले के लिए अनाज व पैसे के दान लिखवाए गए। वंदे मातरम मित्र मंडल के अध्यक्ष कृष्णपाल गंगाखेडी, बद्रीलाल भालोड और संतोष भालोड और विक्रम कमलेश गेहलोत, करवड़ सरपंच शांतिबाई सोलंकी, गंगाखेड़ी सरपंच प्रकाश सोलंकी विशेष रूप से मौजूद थे।

👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻

समाचार एवं विज्ञापन के लिए संपर्क करे 
🤳🏻🤳🏻
राज मेड़ा :- 7049735636
हरिश राठौड़  7974658311

Post a Comment

Post Top Ad