Breaking

Tuesday, February 11, 2020

पेटलावाद गायत्री शक्तिपीठ में हुई शादी दूल्हे की सोच थी कि फिजूल खर्च नहीं करना समाज को एक संदेश देना था


पेटलावद से हरीश राठौड की रिपोर्ट
पेटलावाद।  10 फरवरी के दिन पेटलावद गायत्री शक्तिपीठ पर दूल्हे की शादी कराई गई दूल्हे की सोच थी कि फिजूल खर्च नहीं करना समाज को एक संदेश देना था कि इस महंगाई के जमाने में से बचना चाहिए रायपुरिया के दंत चिकित्सक लक्ष्मीकांत पाटीदार का गायत्री मंत्र के साथ विवाह संपन्न हुआ  परिवार चाहता तो वह सब कुछ अपने घर पर ही अपने बेटे की शादी बड़ी धूमधाम से करा सकते थे लेकिन बेटे ने अपने पिताजी को मना कहा ऐसा नहीं करना है मुझे तो साधारण ही शादी करना है दोनों पति पत्नी की सोच को रायपुरिया गांव के ग्रामीण जन सराहना कर रहे हैं जो हमारे मां-बाप शादी में खर्च करते वह अब हमारे भविष्य के लिए काम में आएंगे। दुल्हन का घर धार जिले के मनावर तहसील के गांव सिंघाना में हैं वहा भी अतिथि शिक्षक रेणु पाटीदार पिता रूपचंद जी पाटीदार दो जीब भरकर अपनी बच्ची को शादी कराने के लिए गायत्री शक्तिपीठ पर लेकर पहुंचे वह भी इस शादी से खुश दिखाई दे रहे थे उनका कहना है कि हमारी बच्ची ने भी यही कहा था। कि पापा आप मेरी शादी में फिजूल खर्च मत करना यह कहकर मुझे मना कर दिया था। विवाह गायत्री शक्तिपीठ से हेमंत शुक्ला ने संम्पन्न करवाया एवं शुभ आशीष दिया।
-----------///////

Post a Comment

Post Top Ad