Breaking

Sunday, March 1, 2020

क्या पेटलावद में जल संकट बुलाया जा रहा है लाखो के वारे न्यारे करने के लिए नगर में कत्रिम जलसंकट उत्पन्न करने के प्रयास




पेटलावद से हरिश राठोड की रिपोर्ट

पेटलावद। नगर की 20 हजार आबादी को जिस पेयजल स्त्रोत से पानी मिलता है।नगर परिषद की लापरवाही के कारण इस पेयजल स्त्रोत पर संकट के बादल छा गए है। गर्मी का मौसम दस्तक दे रहा है।परंतु अभी भी चोर बोराली तालाब में पेटलावद के लिए जलकोटा सुरक्षीत नहीं किया गया है। प्रतिदिन दर्जनों विद्युत मोटरों से तालाब से पानी खींचा जा रहा है। इस कारण तालाब का जल स्तर तेजी से घट रहा है। यदि तालाब में पेटलावद नगर की जनता के लिए पानी का कोटा सुरक्षीत नहीं किया गया तो आने वाले दिनों में नगर को भयंकर पेयजल संकट का सामना करना पडेगा। बीते कुछ सालों में पेटलावद नगर में पेयजल संकट के कारण बहुत कठीन परिस्थितियों का सामना करना पडा है। इस कारण नगर में सप्ताह में एक बार पानी की आपूर्ती की जाती थी और नगरवासियों को महंगे दामों पर नीजी टेंकरों से पानी खरीदना पडता था। इस दौरान पानी की व्यवस्था करने के नाम पर नगर परिषद ने लाखों रूपये फूंके इस प्रक्रिया में नगर के जागरूक लोगों ने भ्रष्टाचार के कई आरोप लगाए। इस वर्ष औसत से अधिक वर्षा होने के बाद भी नगर परिषद की अदूरदर्शीता के कारण चोर बोराली तालाब में समय रहते पानी संचीत करके नहीं रखा जा रहा है।कई विद्युत पंपो से आसपास के किसान दिनरात पानी खींच रहे है। पानी चोरी का यह अवैध क्रम बीना रोक टोक के चल रहा है। जबकी नगर परिषद,सिंचाई विभाग तथा राजस्व इस ओर से आंखे मुंदे बैठे है। तालाब से पानी खिंचने का यह क्रम एक सप्ताह भी चला तो तालाब का जल स्तर कुछ फीट ही रह जाएगा और मार्च बीतते बीतते पेटलावद नगर को पानी आपूर्ती के मामले में विपरीत स्थितियों का सामना करना पडेगा। इन स्थितियों का असर अभी से देखने को मिल रहा है। पेटलावद में नल दिए जाने की अवधि घटा कर 20 मिनीट कर दी गई है। इस दौरान कुछ दर्जन लीटर पानी ही मिल पाता है।

कहीं यह सोची समझी लापरवाही तो नहीं
पेटलावद नगर में जब जब पेयजल संकट आता है तब तब पानी की वैकल्पिक व्यवस्था करने के लिए नगर परिषद को कई पापड बेलने पडते है। तथा इस जल संकट से निपटने के लिए अतिरिक्त धन राशि का जुगाड करना पडता है। नगर के जागरूक नागरिकों का कहना है कि इस जुगाड में जिम्मेदार नेता अफसर अपने आर्थीक हित साध लेते है। इसलिए जानबुझ कर चोर बोराली जलाशय में पानी चोरी के प्रकरणों की ओर से आंखे मुंद ली जाती है। ताकी कृत्रिम जल संकट पैदा हो तथा उसकी आड में भ्रष्टाचार की फसल बोई जा सके।
वर्तमान में चोर बोराली बांध में पानी की मात्रा पेटलावद के नागरिकों के लिए चिंता का विषय बन गई है।यदि तत्काल यहा से की जाने वाल सिंचाई पर प्रतिबंध नहीं लगाया गया तो आने वाले समय में पेटलावद वासियों को बूंद बूंद के लिए तरसना पडेगा। नगर परिषद अध्यक्ष मनोहर भटेवरा का कहना है कि लगी मोटरों के विद्युत कनेक्शन कांटने के लिए विद्युत वितरण कंपनी को कह दिया गया है। तथा सिंचाई विभाग को भी माही से पानी देने बाबत पत्र लिखा है।

👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻

समाचार एवं विज्ञापन के लिए संपर्क करे 
🤳🏻🤳🏻
राज मेड़ा :- 7049735636
हरिश राठौड़  7974658311

Post a Comment

Post Top Ad