Breaking

Thursday, March 5, 2020

पुलिस व प्रषासन की मिलीभगत से टीआई षर्मा के इरादों पर फिरता नजर आ रहा पानी..... पुलिस अधिक्षक करें मानिटरिंग, तभी होगी करोड़ो की जमिन मुक्त....




पेटलावद से अनिल मुथा की रिपोर्ट

पेटलावद। पीछले दो माह से नगर की जनता के बिच सबसे चर्चित मामला पुलिस थाना मद की जमिन पर बडे भु माफिया के कब्जें को लेकर चर्चाओं का दौर आज भी जारी है, तहसीलदार पेटलावद के द्वारा 25 फरवरी को कब्जा हटाने का आदेश देने के बावजुद भी वर्तमान थाना प्रभारी संजय रावत इस आदेश का पालन करवाते हुए भूमि का कब्जा लेने में कोई रूची नहीं लेते दिखाई दे रहे है। आदेश होने के बाद अब तक थाने की और से न तो आदेश की प्रतिलीपी प्राप्त करने में कोई सफलता हासिल की है और ना हीं कब्जा लेने के लिए राजस्व अधिकारियों को कोई आवेदन भी नहीं दिया। इसके ठीक विपरित अतिक्रमणकर्ता को उसी दिन आदेश की प्रतिलीपी मिल गई थी और प्रतिलीपी शोसल मिडि़या में भी खुब वायरल हुई लेकिन जमिन के मालिक पुलिस थाना आदेश होने के सात दिन बाद भी आदेश की प्रतिलीपी नहीं ले पायें है यह बड़ा विचारणिय प्रश्न है, कहीं पूर्व थाना प्रभारी दिनेश शर्मा के द्वारा उठायें गयें इस गरम मुद्दे को पुरा प्रशासन भु माफिया के दबाव में दबाने की तैयारी तो नहीं कर रहा है ? क्योंकि प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार भू माफिया के परिजन स्थानीय राजस्व अधिकारियों के साथ मामले को सेट करने के लिए उनके चेम्बरों में लंबी-लंबी बैठक करते आसानी से देखे जा रहे है, जिससे जनता यह भी सोच रहीं है कि पुलिस व प्रशासन का रवैया गरीबों लोगो और बडे भू माफियाआें के लिए अलग-अलग है और इसलिए बडे भू माफियाओं को विशेष दर्जा पुलिस व प्रशासन के द्वारा दिया जा रहा है, जिससे सीधा यह प्रतित होता है कि दिनेश शर्मा के इरादों पर पानी फिरता नजर आ रहा है।
पुरे मामले में पुलिस अधिक्षक भी कोई रूची लेते नहीं दिखाई दे रहे है जिसकी वजह से करोड़ो की जमिन पर भु माफिया कब्जा जमायें बैठे है।

 👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻

समाचार एवं विज्ञापन के लिए संपर्क करे 
🤳🏻🤳🏻
राज मेड़ा :- 7049735636
हरिश राठौड़  7974658311

Post a Comment

Post Top Ad