Breaking

Thursday, March 5, 2020

नगर की अव्यस्था में दोनो दलों के नेताओं का हाथ.... अधिकारियों को कार्रवाई नहीं करने का दे रहे निर्देश.... एैसे कैसे होगा नगर का भला....जनता पुछ रहीं जवाब....



पेटलावद से हरिश राठौड़ की रिपोर्ट

पेटलावद। हिन्दुस्तान की आजादी के बाद देश की व्यवस्थाओं को चलाने के लिए सवैधानिक संस्थाओं के द्वारा तीन संस्थाए न्यायपालिका, कार्यपालिका और व्यवस्थापिका बनाकर शासन को सुचारू रूप से चलाने की व्यवस्था की गई थी, न्यायपालिका आज भी अपनी जिम्मेदारियों और कर्तव्यों को निभा रहीं है लेकिन आजादी के बाद से हीं कार्यपालिका अर्थात पुलिस व प्रशासन पर व्यवस्थापिका अर्थात राजनेताओं के दबाव के आरोप लगते रहे है और आमजनता हमेशा यह शिकायत करती रहीं की प्रशासनिक अधिकारी राजनितिक दलों व नेताओं के प्रभाव में आकर निष्पक्ष व नियम अनुसार कार्रवाई करने से परहेज करते है। एैसा ही कुछ मामला पेटलावद की कार्यपालिका अर्थात पुलिस और प्रशासन पर व्यवस्थापिका यानि स्थानीय राजनेताओं के प्रभाव व दबाव खुलेआम देखने को मिल रहे है और जिसे प्रत्यक्ष रूप से नगर की जनता ने महसुस भी किया है।

क्या है मामला......

3 मार्च मंगलवार शाम के समय स्थानीय पुलिस थाना प्रांगण में आगामी त्यौहारों को लेकर शांति समिति की बैठक का आयोजन किया गया था जिसमें प्रशासनिक अधिकारी एसडीएम एमएल मालवीय, नायब तहसीलदार भुपेन्द्र भिण्डे, थाना प्रभारी संजय रावत सहित समस्त विभागों के अधिकारी कर्मचारी व पुलिसकर्मियों के साथ हीं नगर के भाजपा व कांग्रेस के जनप्रतिनिधी व पत्रकारों के साथ हीं नगर के गणमान्य नागरिक भी उपस्थित थें और शांति समिति की बैठक की प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद जब नगर के गणमान्य नागरिकों के द्वारा पुलिस व प्रशासन से नगर की ट्राफिक व्यवस्थाओं को सुधारने, सब्जी व फल विक्रेताओं को चिन्हित स्थान केसरिया कुण्ड पर बैठाने, मांस व मछली विक्रेताओं को नगर के बाहर बनी दुकानों में स्थानांतरित करने के साथ हीं पेयजल व्यवस्था और अतिक्रमण के मुद्दो को लेकर पुलिस व प्रशासन को कार्रवाई के लिए निवेदन किया और आमजन की समस्याओं को सुनते हुए एसडीएम एमएल मालवीय व थाना प्रभारी संजय रावत इन मामलों में प्रभावी कार्रवाई करने के लिए रणनिती बनाने पर विचार कर रहे थे तभी सभी उपस्थित नागरिक व अधिकारीगण उस वक्त हतप्रभ रह गयें जब नगर के प्रथम नागरिक नगर परिषद के अध्यक्ष मनोहर भटेवरा ने इन मुददों पर अभी कार्रवाई नहीं करने की बात कहते हुए बाद में विचार करने की बात कहीं और भाजपा के चुनिंदा अध्यक्ष का समर्थन करने के लिए सत्ताधारी दल कांग्रेस के नगर अध्यक्ष जीवन ठाकुर ने भी अतिक्रमणकारियों पर कार्रवाई नहीं करने का सीधा-सीधा निर्देश प्रशासनिक अधिकारियों को दे डाला। .

नगर की अव्यवस्था में राजनितिक स्वार्थ आ रहा आडे.......

नगर की जनता के वोटो से चुनकर बडे-बडे राजनितिक पद लेने वाले नगर के बडे राजनेता नगर की जनता की समस्याओं को निपटाने के लिए वोट मांगते है लेकिन पद मिलने के बाद उसी जनता की समस्या को सुलझाने की अपेक्षा उलझाने में लगे दिखाई दे रहे है।

प्रशासन तो करना चाहता कार्रवाई........

नगर की समस्याओं को लेकर स्थानिय मिडि़या के द्वारा लगातार खबरे प्रकाशित की जाती है और मिडि़या के द्वारा उठाई गई खबरों के आधार पर प्रशासन कार्रवाई भी करने का तत्पर रहता है, पिछले तीन माह से स्थानीय मिडि़या के द्वारा नगर की ट्राफिक व्यवस्था, केसरिया कुण्ड में सब्जी विक्रेताओं को बैठाने और मांस मछली की दुकानों को स्थानांतरित करने की खबरे प्रकाशित की जा रहीं है और इन खबरों के प्रभाव में आकर एसडीएम एमएल मालवीय के द्वारा लगातार कई आदेश व पत्र नगर परिषद, पुलिस थाना व राजस्व विभाग के कर्मचारियों को जारी करते हुए इन समस्याओं के त्वरीत निराकरण के आदेश जारी कियें है लेकिन इन आदेशों का पालन क्यों नहीं हो पा रहा है इसकी समझ नगर की जनता को शांति समिति की बैठक में आई जब नगर के प्रथम नागरिक के द्वारा खुलेआम उपस्थित जनता के सामने हीं अभी कार्रवाई नहीं करने की बात प्रशासनिक अधिकारियों को कहीं और राजनितिक हित साधने के लिए कांग्रेस व भाजपा के परिषद अध्यक्ष की बात का समर्थन कर दिया।

जनता को देना होगा जवाब.....

नगर की व्यवस्थाओं को सुधारने की जगह कार्रवाई नहीं करने का निर्देश देने वाले इन जन प्रतिनिधियों को जनता की अदालत में अपनी सफाई देने के लिए जरूर जाना होगा, पुरा पेटलावद इस बात को समझ गया है कि दोनो हीं दल अपने राजनितिक हितों को साधने के लिए सुधरने हीं नहीं दिया जा रहा है।

इनका है कहना......

इस संबंध में वार्ड क्रमांक 6 के नागरिक एवं अधिवक्ता राहिल रजा मंसुरी ने बताया कि नगर सहित वार्ड क्रमांक 6 की व्यवस्था पूर्ण रूप से खराब हो गई है, केसरिया कुण्ड में बैठने वाले सब्जी विक्रेता पूनः रोड पर पहुंच गयें है।

पूर्व नप. उपाध्यक्ष सुरेन्द्र भण्डारी ने बताया कि नगर की ट्राफिक व्यवस्था बदहाल हो गई है लेकिन नगर के नेता अपने हितों के आगे कुछ देखना हीं नहीं चाहते है।

इस संबंध में वरिष्ट नागरिक जितेन्द्र कटकानी ने बताया कि नगर की व्यवस्थाओं के लिए उचित समय पर उचित निर्णय लेना चाहिए, वहीं कार्रवाई कियें जाने के लिए निश्चित समय सीमा निर्धारित की जाना चाहिए।

👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻

समाचार एवं विज्ञापन के लिए संपर्क करे 
🤳🏻🤳🏻
राज मेड़ा :- 7049735636
हरिश राठौड़  7974658311

Post a Comment

Post Top Ad