Breaking

Monday, March 23, 2020

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए मुस्तेद आयुष विभाग बता रहा है रामबाण उपाय..... पंपावती की सफाई के लिए छोड़ा गया बदबुदार पानी..... नगर परिषद मुस्देती से जुटी सफाई अभियान में......






पेटलावद से हरिश राठौड़ की रिपोर्ट

पेटलावद। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद है, तरह तरह के प्रयास प्रशासन और नगर परिषद द्वारा किये जा रहे है। जानवरों का मांस खाने से फैला यह संक्रमण और तेजी से फैल रहा है जिसको लेकर स्थानीय प्रशासन और नगर परिषद भी पूरी तरह मुस्तैद है। शनिवार को प्रशासन ने मांस, मटन व मछली की दुकानों पर प्रतिबंध लगा दिया है और अगले आदेश तक दुकानदारों को दुकान न खोलने की हिदायत दी है जो कि तारीफे काबिल है। नगर के नागरिक भी नगर में बिक रहे अवैध मांस के खिलाफ अपनी आवाज उठा चुके हैं। प्रशासन ने नागरिकों के स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए तत्काल अवैध रूप से बिक रहे मांस पर प्रतिबंध लगा दिया है जिससे नगर के नागरिकों ने प्रशासन के इस कार्य की सराहना की है। इसके साथ ही जल्द ही मांस विक्रेताओं को मेला ग्राउंड रोड पर बनी दुकानों में शिफ्ट करने की मांग भी की जा रही है जिससे कि नगर के बाहर मांस विक्रेता अपनी दुकाने संचालित करें । इसके साथ ही नगर परिषद की और से पंपावती नदी में एकत्रित गंदा पाना भी गेट खोलकर छोड़ दिया गया है ,उक्त पानी बदबूदार एवं मटमैला था जिसके कारण कई प्रकार की बीमारियों का अंदेशा भी बना रहता था। नगर परिषद सीएमओ लालसिंह राठौर, अध्यक्ष मनोहर लाल भटेवरा व  अन्य कर्मचारियों ने पंपावती नदी में जमा गंदे पानी को छोड़ने का सराहनीय कार्य किया है।

सेनेटाइजर का हो रहा छिड़काव....

कोरोना संक्रमण से बचने के लिए नगर में विशेष साफ सफाई अभियान प्रारंभ किया गया है, पुरे नगर में सेनेटाइजर का दो टेंकरों के माध्यम से छिड़काव किया जा रहा है। नगर परिषद का पुरा अमला इस कार्य में जुटा हुआ है। नालियों को भी साफ किया जा रहा है। पुलिस भी मुस्तेदी के साथ सुरक्षा व्यवस्था में जुटी है। नगर के दीपक काग के द्वारा सेनेटाइजर का छिड़काव हेतू एसटीबी मशिन उपलब्ध करवाई है।

कोरोना ये लड़ने के यह है उपाय....

कोरोना एक एैसा वायरस है जिससे लड़ने के लिए बचाव सबसे कारगार तरिका है ,इसलिए प्रशासन लोगो को शोसल डिस्टेंसिंग के बारें में  जागरूक कर रहा है तथा कोरोना संक्रमण से बचने के उपाय बता रहा है। आयुष विभाग के डॉ. जिनेंद्र जैन ने बताया कि यदि छः सुत्रिय बचाव उपायों पर अमल किया जाए तो व्यक्ति स्वयं एवं पुरे परिवार को कोरोना वायरस से सुरक्षित रख सकता है। डॉ. जैन ने बताया कि उनके बिते 30 वर्षो का अनुभव यह है कि कपाल भाती, अनुलोम विलोम तथा भ्रस्तीका प्राणायाम यदि नियमित आधा-आधा घण्टा सुबह शाम किया जाए तो कोरोना वायरस से बचा जा सकता है, क्योंकि कोरोना वायरस सीधा शोसल तंत्र को प्रभावित करता है और उक्त प्राणायाम से शोसल तंत्र मजबुत होता है, इसलिए इस प्राणायाम से कोरोना संक्रमण की संभावना खत्म हो जाती है, यदि संक्रमण हो भी गया तो उक्त प्राणायाम से वह घातक स्थिती में नहीं पहुंचेगा। डॉ. जैन ने बताया कि परिस्थिती वश बाजार में नकली सेनेटाइजरों की बाढ़ आ गई है तथा सेनेटाइजन बिक्री की आड़ में लोगो को ठगा जा रहा है, इसलिए सेनेटाइजर के चक्कर में आने के बजायें साबुन से हाथ धोये तथा संभव हो तो दस्ताने बहनकर काम करें तथा स्वयं को सामाजिक रूप से एकांतवासी बनायें। इसके अलावा गाय के गोबर का कण्डा, धुप बत्ती, देशी कपुर, गुग्गुल की आहुती देकर घर में धुंआ करें। यह धुंआ कोरोना वायरस के लिए प्रतिकुल होता है। कोरोना से बचने के लिए देनिक आहार में विटामिन सी से भरपुर फल संतरा, अंगुर शामिल करें तथा प्रतिदिन छाछ जो उबले हुए दुध के दहीं से बनी हो जो 18 घण्टे से अधिक पुरानी न हो का सेवन करें। इन उपायों को अपनाकर कोरोना वायरस को पछाड़ा जा सकता है।

👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻

समाचार एवं विज्ञापन के लिए संपर्क करे 
🤳🏻🤳🏻
राज मेड़ा :- 7049735636
हरिश राठौड़  7974658311

Post a Comment

Post Top Ad