Breaking

Friday, May 1, 2020

लम्बी है कोरोना से जंग, जरूरी है ब्लड़ बैंक...... संसाधनों का अभाव, प्लाजमा थेरेपी की बुनियाद कमजोर..... रक्तदान महादान का संकल्प पुरा होने में आती है अडचनें।



पेटलावद से हरिश राठौड़ की रिपोर्ट

पेटलावद। रक्तदान महादान का संकल्प और नारा मानव सभ्यता के लिए सबसे उत्तम नारा है, रक्तदान वह प्रक्रिया है जिसके तहत इस धरती पर मानव को दुसरे मानव की सेवा का अवसर मिलता है। इसको लेकर कई रक्तदाता हमेशा रक्तदान के लिए तत्पर रहते है, लेकिन संसाधनों की कमी के चलते उन्हें कई बार निराशा का सामना करना पड़ता है लेकिन कोरोना के इस संक्रमण काल में रक्तदान का महत्व बड़ने वाला है, परन्तु संसाधनों की कमी के चलते प्लाजमा थेरेपी की बुनियाद कमजोर होती दिखाई दे रहीं है।

प्लाजमा थेरेपी का महत्व.....


वर्तमान में कोरोना संकट छाया हुआ है जिसको लेकर देश विदेश के वेज्ञानिक और चिकित्सक कोविड़-19  का इलाज खोजने के हर संभव प्रयास कर रहे है लेकिन अब तक महत्वपूर्ण सफलता हाथ नहीं लगी है। पेटलावद बीएमओं डॉ. एमएल चौपड़ा ने की माने तो प्लाज्मा थेरेपी के तहत कोरोना पॉजिटीव मरीज का ईलाज होने के बाद स्वस्थ्य हो जाने पर उसके शरीर में इन्टीबायोटीक की क्षमता बढ़ जाती है और ऐसे व्यक्ति का रक्त नयें पॉजिटीव मरीज को चढ़ाने से उस मरीज के भी स्वस्थ्य होनी की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है, इसलिए आने वाले समय में प्लाजमा थेरेपी का बडे स्तर पर उपयोग किया जा सकता है।

प्रतिदिन जरूरत पडती है रक्त की.....

पेटलावद तहसील घनी आबादी वाला क्षेत्र है, जिससे आये दिन इस क्षेत्र में कई प्रकार की घटनाएं दुर्घटनाए होती रहती है। पेटलावद में अधिकांश मरीजों को रक्त की आवश्कता पडती है तथा आयें दिन शोसल मिडि़या पर रक्त की आवश्यकता होने की सुचनाएं प्रसारित होती रहती है। शोसल मिडि़या पर सुचना होने से मानव सेवा का धर्म निभाने वाले नगर के नागरीक हर बार अपनी भूमिका रक्तदान के माध्यम से निभाते है, नगर के जैन तेरापंथ युवा संघ के द्वारा कई बार वर्ष में 4 से 5 रक्तदान शिविर का आयोजन किया जाता है। वहीं नगर में एक अन्य आजाद ब्लड गु्रप नामक गु्र्रप भी बना हुआ है जिसमें लगभग 300 से 400 सदस्य जुडे हुए है जो सुचना मिलने पर रक्तदान के लिए हमेशा तत्पर रहते है, वहीं आम नागरिकों के द्वारा भी समय समय पर अपना योगदान दिया जाता है।

संसाधनों का अभाव.....

विपरित परिस्थियों में रक्तदाताओं की कोई कमी नहीं है किन्तु रक्तदान की प्रेरणा होने के बावजुद नगर में चिकित्सालय से रक्त के लिए मरीजों को झाबुआ या अन्यंत्र रैफर करना पड़ता है। सुत्रों की माने तो पेटलावद सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में प्रत्येक ब्लड गु्रप की स्टोरिन क्षमता का अभाव है। रक्त संचय के लिए लगने वाले आवश्यक बेग की कमी खल रहीं है। समय पर बेग उपलब्ध नहीं होने से रक्तदाता व रक्त लेने वालें को निराश होना पड़ता है। साथ हीं अस्पताल में दान कियें जाने वाले रक्त की जांच और संग्रहण की क्षमता के लिए लगने वाले आवश्यक उपकरण व संसाधनों का अभाव है। वहीं कुछ गु्रप के रक्त जिले से मंगवाकर चिकित्सा केन्द्र में सुरक्षित रखे जाते है लेकिन उन्हें एक निश्चित समयावधी तक उपयोग नहीं होने पर वापस भेज दिया जाता है अन्यथा संचित रक्त की उपयोगिता समाप्त होने की संभावना बन जाती है।

होना चाहिए ब्लड़ बैंक.....

हमारें नगर से 24 किमी दूर थांदला क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ताओं, गणमान्य नागरिको, पत्रकारों तथा जनप्रतिनिधियों के सहयोग से पंजिकृत ब्लड़ बैंक की स्थापना की गई है जहां पर सभी प्रकार के रक्त उपलब्ध होने के साथ हीं रक्तदान में लगने वाले आवश्यक संसाधन भी मोजुद है। पेटलावद नगर थांदला क्षेत्र से बड़ा है और यहां पर कई प्रकार के सामाजिक संगठन सक्रिय है। नगर में कई लोग एैसे भी है जो सामाजिक धार्मिक कार्यो में अग्रणी रहते है। यदि सभी मिलकर प्रयास करें तो नगर में ब्लड़ बैंक की स्थापना की जा सकती है और भविष्य के लिए इस प्रकार की तैयार नगर और मानवहित में जरूरी भी है। 

इनका है कहना.....

इस संबंध में आजाद ब्लड़ गु्रप के सदस्य महेन्द्रहसिंह बिश्नोई, अनुज धानक, रवि बसोड़, नितिन पिपलोदिया, गोपाल लच्छेटा, सरस भायल आदि ने बताया कि हमारें द्वारा रक्त की आवश्यकता की सुचना मिलने पर तत्काल अस्पताल पहुचकर सहयोग किया जाता है, यदि नगर में ब्लड बैंक की स्थापना के लिए पहल होती है तो हम अपना योगदान करेंगे।

भाजपा नगर मण्डल अध्यक्ष किर्तिष चाणोदिया ने कहां कि ब्लड़ बैंक की स्थापना के लिए शासन स्तर पर हर संभव प्रयास करने के लिए तत्पर हूॅ।

ब्लांक कांग्रेस अध्यक्ष नरेन्द्रपालसिंह सलुनिया ने कहां कि पेटलावद जैसे बडे क्षेत्र के लिए ब्लड़ बैंक की स्थापना जरूरी है, विधायक के नेतृत्व में इसके लिए पुरे प्रयास कियें जाऐंगे।

जैन अभातेयुका के राष्ट्रीय कार्य समिति के सदस्य एवं अधिवक्ता रूपम पटवा ने कहा कि हमारें द्वारा प्रतिवर्ष रक्तदान शिविर आयोजित किया जाता है, यदि नगर में ब्लड़ बैंक की स्थापना होती है तो हम पुरा सहयोग करेंगें। 




Post a Comment

Post Top Ad