Breaking

Wednesday, May 13, 2020

काउंट की लगातार हो रहीं हेंकिग....कैसे बचे तकनिकी लुटेरों से....सावधानी बरतने से हो सकता है एकाउंट सुरक्षित....



पेटलावद से हरिश राठौड़ की रिपोर्ट

पेटलावद। इन दिनों लगातार शोसल मिडि़या पर कई लोगो द्वारा उनके आईडी एवं एकाउंट हेक होने की खबरों के साथ उनके नाम से पैसा मांगने, डेबीट कार्ड से खरीदारी करने और बैंक खाते से रूपयां ट्रांसफर होने के साथ हीं आईड़ी का दुरूपयोग करने की शिकायतें लगातार मिल रहीं है। नगर में गत दिनों हीं एक कियोस्क संचालक की एकाउंट आईडी हेक कर ली गई थी जिसकी सुचना उनके द्वारा पुलिस थाने में की गई, वहीं फेसबुक व वाट्सअप पर कई लोग अपनी आईडी हेक होने की सुचना देने के साथ हीं अपने परिजनों व मित्रों को आईड़ी में आयें हुए मेसेज के माध्यम से पैसा मांगने पर नहीं देने की अपील करते दिख रहे है।

क्या है हेकिंग..

कम्प्युटर एवं साफ्टवेयर इंजिनियरों के अनुसार वाट्सअप, फेसबुक, इंस्ट्राग्राम आदि सुविधाओं को लेने के लिए व्यक्ति को शोसल मिडि़या पर एकाउंट की आवश्यकता होती है और इस एकाउंट के संचालन एवं गोपनियता के लिए पासवर्ड सिस्टम होता है जो प्रोफेशनल हेकर या कम्प्युटर एक्सपर्ट होते है वह आपके इस एकाउंट पासवर्ड को क्रेक करके आपके एकाउंट के संचालन का सारा सिस्टम हेक करके खुद हीं ओपरेट करने लग जाते है जिसे तकनिकी भाषा में हेकिंग कहां जाता है। इसके बाद वह आपके नाम से परिचितों से रूपयें आदि की मांग करने के अलावा आपकी एकाउंट आईड़ी का दुरूपयोग करते है। साथ हीं आपके बैंक खातों से रूपया भी चुरा लेते है, जिसका पता चलाना मुश्किल होता है। 
कैसे रखे एकाउंट को सुरक्षित......

इस संबंध में नगर के प्रसिद्ध कम्प्युटर एवं तकनिकी विशेषज्ञ तथा साफ्टेक कम्प्युटर के संचालक प्रदीप तीवारी ने जानकारी देते हुए बताया कि एकाउंट होल्डर को साफ्टवेयर पर जाकर टु स्टेप वेरिफिकेशन सिस्टम का उपयोग करना चाहिए जिससे की आपके एकाउंट को खोलने व संचालन के लिए दो बार पासवर्ड सिस्टम लागु होता है। हेकर एक पासवर्ड को तो हेक कर सकता है लेकिन टु स्टेप सिस्टम में यह इतना आसान नहीं होता है। वहीं टु स्टेप सिस्टम का उपयोग करने से एक ओटीपी नंबर जारी होता है जो कि एकाउंट संचालक को हीं पता होता है जिससे हेकर आपके एकाउंट को हेक नहीं कर पाता है। वही पासवर्ड की गोपनियता अनिवार्य रूप से बनायें रखते हुए लगातार समय-समय पर अपने पासवर्ड भी बदलने चाहिए और यदि एकाउंट हेक हों जाता है तो सेंटींग सिस्टम में जाकर हेक हुए एकाउंट को डिलीट भी किया जा सकता है। इस तरह से इन छोटी-छोटी सावधानियों को रखकर आप अपना एकाउंट सुरक्षित रख सकते है।

क्या करता है कानून......

नगर में लगातार आईड़ी हेक होने की सुचना मिलने पर एसडीओपी बबीता बामनिया व थाना प्रभारी संजय रावत द्वारा आमजन से सावधानी बरतने और सतर्क रहने की अपील की जा रहीं है। उनके द्वारा बताया जा रहा है कि आमजन किसी भी फेक आईडी से की जा रहीं डिमांड को पुरा न करें ना हीं अपने पासवर्ड या ओटीपी नंबर किसी को बतायें। पुरी सावधानी रखे, यदि किसी के द्वारा इस प्रकार की राशि की मांग की जाती है तो तुरंत पुलिस को सुचना करें। पुलिस द्वारा शिकायत प्राप्त होने पर जिला स्तर पर बनी हुई सायबर शाखा में शिकायत की जांच के बाद सायबर क्राईम एवं आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया जाता है।

सजा व जुर्मानें का प्रावधान........ 

इस संबंध में नगर के जाने माने अधिवक्ता व नोटरी राजेन्द्र चतुर्वेदी ने बताया कि एकाउंट हेकिंग और आईड़ी का दुरूपयोग करने वाले के विरूद्ध भारतीय दण्ड विधान, एवं सायबर क्राईम व आईटी एक्ट की धाराओं में आपराधिक मुकदमा दर्ज होता है जिसमें न्यायालय द्वारा 3 से लेकर 10 साल तक की सजा व जुर्मानें का प्रावधान अपराध की गंभीरता के आधार पर दिया जाता है। इसलिए इन अपराधियों से बचने के लिए पुलिस का सहारा लेना चाहिए और अपने पासवर्ड आदि भी सुरक्षित रखना चाहिए

Post a Comment

Post Top Ad