Breaking

Sunday, May 3, 2020

हां शुभ इच्छाएं भय व निराशा से बड़ी होती हैं






समाचार 20 से वीरेंद्रजी व्यास रिपोर्ट

उज्जैन । देश में पिछले कोई दो माह  से चल रहे  कोरोना  महामारी के खतरों के समाचारों और इससे निजात पाने के प्रयासों के बीच बार-बार देश के प्रधानमंत्री चिकित्सकों मनोवैज्ञानिकों व साधु-संतों द्वारा यह बात कही जा रही है कि निराशा व डर की बजाय आशावादी सोच व सकारात्मक सोच के साथ जीवन जिए और घरों में रहें इसके चलते लाक डाउन की बंदिशों के बीच कई लोग विभिन्न तरीके से एक दूसरे को प्रसन्नता, साहस और सकारात्मकता का संदेश पहुंचाने में लगे हुए हैं । लॉक डाउन के चलते जहां हजारों लोग विवाह के बंधन में बनने से रह गए हैं। वही देश में ऐसे लोगों की भी कमी नहीं है जो अपने विवाह की वर्षगांठ मनाने का आनंद नहीं उठा पा रहे हैं पर यह बात भी सही है कि राष्ट्र हित और समाज हित को सबसे ऊपर रखना जरूरी है इस तकनीक के युग में अभाव और निराशा को स्वभाव और सकारात्मकता में बदलने का जज्बा भी बना हुआ है जो कि लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग के रूप में फिजिकल दूरियों के बावजूद रिश्तो को निभाने और भावनाओं को व्यक्त करने में आड़े नहीं आने दे रहा है। ऐसा ही एक वाकया 1 मई 2020 को उज्जैन में देखने में आया जब जीवन बीमा निगम के विकास अधिकारी     मुकेश व्यास और उनकी न्यूट्रीशनिस्ट एवं योग  विशेषज्ञ पत्नी डॉ. लतिका व्यास को उनके परिवार जन व परिजन प्रत्यक्ष उपस्थित नहीं हो कर प्रत्यक्ष रूप से बधाई ना दे पाने का अफसोस पिछले दो रोज से फोन पर प्रगट कर रहे थे। इसके चलते उनकी पुत्री परा व्यास बहन अंजलि ठाकुर एवं भोपाल के ख्यात डीजे रोहित ठाकुर ने प्लान बनाया कि क्यों न सोशल डिस्टेंसिंग की इस बाधा को सोशल मीडिया के माध्यम से दूर  किया जाए और जो लोग अपने संदेश आशीर्वाद भेज रहे हैं उन्हें एंड्राइड फोनसे खुद अपने फोटो सहित भेजने का कहां जाए इस आईडिया के चलते लोगों के द्वारा भेजे गए वीडियो संदेशों को एकत्र कर  श्री रोहित ठाकुर को भोपाल भेजें । ठाकुर ने तकरीबन पूरी रात मेहनत करके उन 50 वीडियो संदेशों को क्रमबद्ध किया और उन्हें यूट्यूब पर डाल दिया । जिसकी बदौलत शाजापुर की शतायु वर्ष की माताजी एवं भोपाल की  90 वर्षीय श्रीमती सुमन ठक्कर तथा पेटलावद के 85 वर्षीय श्री राजेंद्र व्यास और इंदौर 80 वर्षीय श्री देवेंद्र उपाध्याय, श्री जयेंद्र मोहन व्यास नरेंद्र उपाध्याय सहित कई परिजनों के शुभकामना संदेश को सैकड़ों लोगों द्वारा देखा व सुना गया और इस तरह कोरोना के कहर तथा निराशा को शुभ इच्छाओं तथा आशीर्वाद ने अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया। नकारात्मकता पर सकारात्मक ताकि यह विजय निश्चय ही कोरोना जैसे कई संकटों से वर्तमान व भावी पीढ़ी को निजात दिला सकती है। इस तरह वृद्धजनों तथा तमाम परिवारजनों परिजनों ने अपने अपने घरों में रहते हुए ही एक दूसरे को मुस्कुराहट भरे चेहरों से परिवारजनों तथा समाज को सकारात्मकता का संदेश दिया और सभी के चहेते इस दंपत्ति मुकेश लतिका को उनकी 25वीं विवाह वर्षगांठ पर भारी बधाइयां दी । निश्चित रूप से इस प्रयोग से यह विवाह वर्षगांठ ऐतिहासिक एवं अनुकरणीय बन गई दंपत्ति को बधाई देने में पेटलावद, रतलाम, इंदौर उज्जैन शाजापुर भोपाल देवास रायपुर आदि स्थानों के अलावा अमेरिका से मुक्ता व संदीप पंड्या तथा इटली से कार्तिक उपाध्याय दुबई से श्रुति व्यास विनय व्यास दक्षिण अफ्रीका से अक्षय जोशी निकिता जोशी ने भी अपनी शुभकामनाएं व्यक्त की। योगाचार्य डॉ. राधेश्याम मिश्रा ख्यात रंगकर्मी श्री गिरिजेश व्यास, मोटिवेशनल स्पीकर पद्मिनी राठौड़  ख्यात डीजे श्री रोहित ठाकुर भोपाल भारतीय जीवन बीमा के शाखा प्रबंधक श्री निलेश उपाध्याय, और पलवा ठाकुर दंपत्ति प्रिया अवनींद्र सिंह ने भी अलग अलग अंदाज में रोचक भावनाएं व्यक्त की । सभी आशीर्वाद दाताओं एवं शुभकामना व्यक्त करने वालों  का मुकेश लतिका ने बड़ी ही विनम्रता से आभार प्रकट किया।

Post a Comment

Post Top Ad