Breaking

Tuesday, May 12, 2020

2 मई नर्स दिवस... कोरोना संक्रमण कॉल में नर्से दे रहीं अपनी सेवाए....



पेटलावद से हरिश राठौड़ की रिपोर्ट

पेटलावद। जब से कोरोना का वायरस ने मानव समाज में दखल दी है, तब से हीं इस वायरस से लड़ने और बीमारों की सेवा करने के लिए हिन्दूस्थान के सभी चिकित्सक, नर्से, पुलिस स्टॉफ और सफाईकर्मी जीजान से लगे हुए है। इनके सम्मान में देश के प्रधानमंत्री सहित पुरे देशवासीयों में सम्मान का जज्बा उत्पन्न हुआ है। जिन्हें कोरोना योद्धाओं के नाम से पुरे देश में जाना पहचाना जा रहा है।

लगातार दे रहीं अपनी सेवाए....

बीएमओं डॉ. एमएल चौपड़ा ने जानकारी देते हुए बताया कि पेटलावद सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र एवं ब्लाक सभी उपस्वास्थ्य केन्द्रों पर 16 स्टॉफ नर्स श्रीमति शशी निगम, श्रीमति अंजना काग, श्रीमति कंचन काग, सोनु राठौड़, संगीता झाला, राजु मुलेवा, किरण तोमर, रजनी त्रिवेदी, गीता नलवाया, कृष्णा जामले, शुभाषी शर्मा, रमीला बामनिया, सरस्वती धुर्वे, सीमा भाबर, वंदना खडि़या आदि नर्से अपनी सेवाएं देकर मरीजों की देखरेख कर रहीं है। वहीं पुरे ब्लाक में 63 एएनएम भी लगातार अपनी सेवाएं दे रहीं है। वर्तमान में कोरोना की महामारी के बीच भी यह नर्से पुरी निष्ठा के साथ अपनी सेवाए दे रहीं है। चिकित्सकों को अपने कार्य को आसानी से करने के लिए सहयोग के रूप में जो सबसे प्रथम पंक्ति में खड़ी होकर सहयोग करती है उसे चिकित्सा क्षेत्र में नर्स के नाम से पुकारा जाता है। मंगलवार 12 मई को अंतराष्ट्रीय नर्स दिवस के रूप में मनाया जाता है। उल्लेखनिय है कि नर्स दीवस को मनाने की शुरूआत वर्ष 1965 में इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्सेज ने की थी। वहीं 12 मई 1974 से अंतराष्ट्रीय नर्स दीवस के रूप में मनाया जाता है। कोरोना के इस काल में आज के दिन नर्स दीवस को 2020 में नर्सिंग द वर्ल्ड टु हेल्थ की संज्ञा देते हुए पुरे देश में मनाया जा रहा है। उल्लेखनिय है कि नोबल पुरूस्कार विजेता एवं शांति की प्रतिक के रूप में पहचाने जाने वाली मदर टेरेसा ने भी अपना जीवन एक नर्स के रूप में सेवा करते हुए मरीजों के बीच बिताया था।


👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻

समाचार एवं विज्ञापन के लिए सम्पर्क करें 
राज मेड़ा 7049735636
हरिश राठौड़ 7974658311

Post a Comment

Post Top Ad