Breaking

Monday, June 22, 2020

सुखद परिणाम, बिना ऑपरेशन हो रहे प्रसव..... महिला ने 108 में दिया जुड़वा बच्चों को जन्म....

सुखद परिणाम, बिना ऑपरेशन हो रहे प्रसव..... महिला ने 108 में दिया जुड़वा बच्चों को जन्म.... पेटलावद। कोरोना के संक्रमण के दोरान अधिकांश प्रसव सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में बिना किसी ऑपरेशन के करवायें जा रहे है, बीएमओं डॉ एमएल चौपड़ा के मुताबिक पिछले 25 मई से लेकर जुन माह में हीं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर 368 सौ अधिक डिलेवरी सामान्य रूप से और 8 डिलेवरी सीजर ऑपरेशन से हुई है। इस तरह से अधिकांश डिलेवरी चिकित्सकों ने बिना सीजर ऑपरेशन के करवाई है जिसका सीधा अभिप्राय है कि अस्पतालों में मरीजों की संख्या अधिक होने तथा चिकित्सकों का अभाव होने के चलते चिकित्सा क्षेत्र से जुडे लोग डिलेवरी के समय अधिक फायदा उठाने के चक्कर में सामान्य डिलेवरी को भी ऑपरेशन से कराने की सलाह देते है। इसके पिछे मुख्य उदेश्य समय की बचत और सीजर ऑपरेशन से चिकित्सकों को खासा मुनाफा होता है, इसी सीजर ऑपरेशन के चक्कर में एक परिवार को डिलेवरी के समय 20 हजार से लेकर 1 लाख से भी अधिक तक का बिल निजी अस्पतालों में चुकाना पड़ता है। वहीं सीजर आपरेशन के बाद महिला को शारीरिक रूप से रिकवर होने में समय लगता है लेकिन इस प्रक्रिया को व्यापार का रूप दे चुके चिकित्सा क्षेत्र से जुडे लोग मानव सेवा कम व्यापार ज्यादा कर रहे है।  सामान्य डिलेवरी के कारण..... कई पुराने अनुभवी दाईयों का मानना है कि यदि चिकित्सक ठीक ढंग से उपचार करें तो सामान्य डिलेवरी के आंकड़े बढ़ सकते है। इस संबंध में मुख्य रूप से चिकित्सा व महिला बाल विकास विभाग के द्वारा जो निरंतर आंगनवाड़ी व आशा कार्यकर्ताओं के माध्यम से गर्भधारण के समय से हीं गर्भवती महिला की जांच व समय-समय पर टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है उससे भी गर्भवती महिलाओं को खासा फायदा हो रहा है और प्रसव के समय नौ माह तक लियें गयें निरंतर इलाज के चलते महिलाओं को सामान्य डिलेवरी कराने में आसानी हो रहीं है। वहीं ग्रामीण क्षेत्र में महिलाओं को गर्भावस्था के दोरान उचित देखरेख, योग व खानपान से भी फायदा हो रहा है।  वाहन में हुई डिलेवरी..... सोमवार दोपहर को ग्राम मोईवागेली निवासी मायली पति प्रकाश मेड़ा को प्रसव पिढ़ा होने पर परिजनों के द्वारा तत्काल संजिवनी 108 वाहन को मौके पर बुलवाया गया। संजिवनी वाहन चिकित्सालय पहुंचता उसके पूर्व हीं महिला को ज्यादा प्रसव पिढ़ा होने से वाहन चालक ईएमटी हनुमंत शर्मा, पायलट हेमंत शर्मा ने सर्तकता बरतते हुए रास्तें में हीं वाहन रोककर सफल प्रसव करवाया। प्रसव पश्चात महिला व नवजात लड़का-लडकी को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया जहां पूर्ण रूप से स्वस्थ्य है।
                     फोटो - जुडवा बच्चें
                               
पेटलावाद से हरिश राठौड़ की रिपोर्ट

पेटलावद। कोरोना के संक्रमण के दोरान अधिकांश प्रसव सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में बिना किसी ऑपरेशन के करवायें जा रहे है, बीएमओं डॉ एमएल चौपड़ा के मुताबिक पिछले 25 मई से लेकर जुन माह में हीं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर 368 सौ अधिक डिलेवरी सामान्य रूप से और 8 डिलेवरी सीजर ऑपरेशन से हुई है। इस तरह से अधिकांश डिलेवरी चिकित्सकों ने बिना सीजर ऑपरेशन के करवाई है जिसका सीधा अभिप्राय है कि अस्पतालों में मरीजों की संख्या अधिक होने तथा चिकित्सकों का अभाव होने के चलते चिकित्सा क्षेत्र से जुडे लोग डिलेवरी के समय अधिक फायदा उठाने के चक्कर में सामान्य डिलेवरी को भी ऑपरेशन से कराने की सलाह देते है। इसके पिछे मुख्य उदेश्य समय की बचत और सीजर ऑपरेशन से चिकित्सकों को खासा मुनाफा होता है, इसी सीजर ऑपरेशन के चक्कर में एक परिवार को डिलेवरी के समय 20 हजार से लेकर 1 लाख से भी अधिक तक का बिल निजी अस्पतालों में चुकाना पड़ता है। वहीं सीजर आपरेशन के बाद महिला को शारीरिक रूप से रिकवर होने में समय लगता है लेकिन इस प्रक्रिया को व्यापार का रूप दे चुके चिकित्सा क्षेत्र से जुडे लोग मानव सेवा कम व्यापार ज्यादा
कर रहे है।

 सामान्य डिलेवरी के कारण..... 

कई पुराने अनुभवी दाईयों का मानना है कि यदि चिकित्सक ठीक ढंग से उपचार करें तो सामान्य डिलेवरी के आंकड़े बढ़ सकते है। इस संबंध में मुख्य रूप से चिकित्सा व महिला बाल विकास विभाग के द्वारा जो निरंतर आंगनवाड़ी व आशा कार्यकर्ताओं के माध्यम से गर्भधारण के समय से हीं गर्भवती महिला की जांच व समय-समय पर टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है उससे भी गर्भवती महिलाओं को खासा फायदा हो रहा है और प्रसव के समय नौ माह तक लियें गयें निरंतर इलाज के चलते महिलाओं को सामान्य डिलेवरी कराने में आसानी हो रहीं है। वहीं ग्रामीण क्षेत्र में महिलाओं को गर्भावस्था के दोरान उचित देखरेख, योग व खानपान से भी फायदा हो रहा है।

 वाहन में हुई डिलेवरी.....

 सोमवार दोपहर को ग्राम मोईवागेली निवासी मायली पति प्रकाश मेड़ा को प्रसव पिढ़ा होने पर परिजनों के द्वारा तत्काल संजिवनी 108 वाहन को मौके पर बुलवाया गया। संजिवनी वाहन चिकित्सालय पहुंचता उसके पूर्व हीं महिला को ज्यादा प्रसव पिढ़ा होने से वाहन चालक ईएमटी हनुमंत शर्मा, पायलट हेमंत शर्मा ने सर्तकता बरतते हुए रास्तें में हीं वाहन रोककर सफल प्रसव करवाया। प्रसव पश्चात महिला व नवजात लड़का-लडकी को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया जहां पूर्ण रूप से स्वस्थ्य है।


👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇

समाचार एवं विज्ञापन के लिए संपर्क करे 


राज मेड़ा7049735636


हरिश राठौड़ 7974658311


Post a Comment

Post Top Ad