Breaking

Tuesday, June 16, 2020

ईमानदारी का पाठ पढ़ाने वाले लोक निर्माण विभाग झाबुआ के कार्यपालन यंत्री संभागीय अधीक्षण यंत्री इंदौर का क्यों नहीं कर रहे आदेश का पालन 5 माह बाद भी जानकारी नहीं



बामनिया से दिलीप मालवीय /हरिश राठौड़ की रिपोर्ट

झाबुआ जिले में निरंतर विभागीय भ्रष्टाचार के मामले बढ़ते जा रहे हैं सूचना के अधिकार के अंतर्गत प्राप्त दस्तावेजों के आधार पर कई विभागों में अधिकारियों की मिलीभगत से समय-समय पर भ्रष्टाचार के खुलासे होते आ रहे हैं विभागीय अधिकारियों कर्मचारियों द्वारा किस मद की राशि में कैसे भ्रष्टाचार करना है एक दूसरे के सहयोग से  आदिवासी बहुल झाबुआ जिले में करते चले आ रहे हैं  इन अधिकारियों के ऊपर केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाए गए संयुक्त कानून सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 का भी असर होता हुआ नहीं दिख रहा है ऐसा ही एक मामला लोक निर्माण विभाग के अंतर्गत मार्ग माछलिया से मर्गा रुंडी  मर्गा रुंडी से कंजवानी मार्ग सहित गोदडिया से करंनगढ मार्ग का है सूचना के अधिकार के अंतर्गत अधिनियम की धारा 6 ( 1) के अंतर्गत जानकारी मांगी गई थी लेकिन 5 माह बीत जाने के बाद भी ईमानदारी का ढिंढोरा पीट रहे लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री झाबुआ द्वारा आज दिनांक तक जानकारी संबंधित शिकायतकर्ता को नहीं दी गई है ऐसा लगता है इन मार्गो में भी बड़ा खेल हो गया है

(संभागीय अधीक्षक यंत्री इंदौर को धारा 19( 1) के अंतर्गत की गई है शिकायत)

सूचना के अधिकार की जानकारी के संबंध में समय सीमा निकल जाने के बाद में अपील करता द्वारा स्व उपस्थित होकर संभागीय अधीक्षण यंत्री वरिष्ठ कार्यालय इंदौर को भी शिकायत धारा 19( 1) के अंतर्गत की गई है जिसमें बताया गया लंबे समय से समय सीमा निकल जाने के बाद में वरिष्ठ कार्यालय अधिकारी द्वारा जानकारी उपलब्ध नहीं कराई गई।

(कार्यपालन यंत्री नहीं कर रहे हैं अधीक्षक यंत्री इंदौर के आदेश का पालन मामला पहुंचा धारा 20 (1)  के अंतर्गत राज्य सूचना आयोग भोपाल)


 5 माह निकल जाने के बाद में भी 3 मार्ग निर्माण कार्यों की जानकारी उपलब्ध नहीं कराते हुए वरिष्ठ कार्यालय इंदौर के आदेश का पालन नहीं करते हुए की शिकायत राज्य सूचना आयोग भोपाल में धारा 20 (1) के अंतर्गत की गई है जिसमें बताया गया है कि अधिकारी द्वारा अपने कार्य के प्रति लापरवाही बरती जा रही है एवं अधिकारी द्वारा सूचना के अधिकार अधिनियम की धारा 6 (1) 19( 1 )की अवहेलना की जा रही है

Post a Comment

Post Top Ad