Breaking

Tuesday, June 2, 2020

पक्की छतों का आज भी इंतजार, बरसात पूर्व ग्रामीण बदल रहे कवेलु....



पेटलावद से हरिश राठौड़ की रिपोर्ट


पेटलावद। बारिष का समय नजदिक आ रहा है, सोमवार को क्षेत्र में तेज आंधी के साथ झमाझम बारिष हुई जिससे कई पेड़ धराशाहीं हो गयें। मंगलवार को पुरे दिन वातावरण में ठण्डक का माहोल रहा। वहीं बारिष का पानी घरों में प्रवेश न करें, इसलिए लोग बचाव के तरिकें अपना रहे है। ग्रामीण क्षेत्रों में ग्रामीणों के द्वारा अपने घरों के कवेलु, पतरे और घांस फुस आदि से बनी हुई झोपडि़यों को बरसात के मौसम से बचने के लिए तैयार करना शुरू कर दिया गया है। अधिकांश ग्रामीणों द्वारा बारिष के पूर्व अपनी झोपड़ी पर लगे हुए कवेलु और चद्दर को बदलने का काम किया जा रहा है। जिसके चलते मंगलवार को अधिकांश ग्रामीण नगर में अपनी छतो के लिए पतरें, बरसाती आदि की खरीदारी करते नजर आयें। वैसे तो सरकारी आंकड़ों में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत कई गरीब लोगो के पक्के मकान और उन पर बनी हुई छत को कागजों में दिखाया गया है लेकिन धरातल पर आज भी ग्रामीणों को सर छुपाने के लिए पक्की छत का इंतजार है।


Post a Comment

Post Top Ad