Breaking

Thursday, June 11, 2020

नप. ने भेजा कचरा प्रबंधन हेतू एमआरएफ योजना का प्रस्ताव..... मिलेगी कचरे से निजात...होगी नप. को आमदनी।

नप. ने भेजा कचरा प्रबंधन हेतू एमआरएफ योजना का प्रस्ताव.....  मिलेगी कचरे से निजात...होगी नप. को आमदनी


पेटलावद से हरिश राठौड़ की रिपोर्ट

पेटलावद। पीछले दस वर्षो में पेटलावद विकसीत नगर के रूप में परिवर्तित होता जा रहा है, नगर की सीमाए और आबादी बढ़ने के साथ हीं सुविधा व संसाधन भी बढ़ रहे है। जहां दस वर्ष पूर्व नगर से निकलने वाले कचरें को स्थानिय मेला ग्राउंड के समिप स्थित टेचिंग ग्राउंड पर फेंका जाता था तब नगर की आबादी कम होने से कचरा भी कम निकलता था और इस कार्य के लिए यह उचित स्थान भी था, किन्तु अब बदली हुई परिस्थियों और आबादी बढ़ने से उक्त टेंचिंग ग्राउंड से कुछ ही दुरी पर राममोहल्ला, तलावपाड़ा व शुभाष मार्ग जैसे घनी आबादी वाले रहवासी क्षेत्र के अलावा बरवेट रोड़ पर मलिन बस्ती भी स्थित है जिनके बीच में उक्त टेंचिंग ग्राउंड घीरा है। प्रतिदिन पुरे नगर से लगभग 5 कचरा वाहनों और ट्रेक्टर से कचरा,पॉलिथिन तथा अनुपयोगी वस्तुए एकत्रित कर टेंचिंग ग्राउंड में डाली जाती है। कचरें का कोई निपटाने नहीं होने से पुरा ग्राउंड कचरे के ढेर से पटा पड़ा है। हालांकि नप. के जिम्मेदार कहते नहीं थकते है कि टेचिंग ग्राउंड के लिए पुरी योजना तैयार है, सिर्फ उसे मंजुरी का इंतजार है, लेकिन आखिर कब तक नगर के हितों में बनी योजनाए कागजों में हीं दबी रहेगी।

शासन को भेजा है प्रस्ताव....

हांलाकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान को पुरे देश सहित विश्व में समर्थन मिला है और इस अभियान के चलते पेटलावद की नप. ने अच्छी व्यवस्था करते हुए नगर की समस्त गंदगी व कचरे को नगर से बाहर निपटान हेतू टेंचिंग ग्राउंड बना रखा है। इस संबंध में नप. सीएमओं लालसिंह राठौर ने बताया कि नप. द्वारा इस समस्या से निपटने के लिए स्थाई व कारगर एमआरएफ (मटेरियल रिकवरी फेसेलिटी सेंटर) नामक योजना के तहत प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा है जिसमें टेंचिंग ग्राउंड के आसपास बाउंड़्री वाल का निर्माण, लाईटींग व्यवस्था के साथ हीं कचरे को अलग-अलग करके उसे खत्म करने या फेक्ट्रीयों में खराब प्लास्टिक आदि बेचने के लिए तैयार किया जाएगा और गीले तथा सुखे कचरे व कांच तथा अपशिष्ट कचरे को अलग करते हुए पूर्ण रूप से नष्ठ करने की प्रक्रिया अपनाई जाएगी जिससे कचरा व गंदगी खत्म होने के अलावा नप. को आमदनी भी होगी।
इस संबंध में सीएमओं लालसिंह राठौर ने बताया कि हमारें द्वारा प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा है, जल्द हीं शासन से मंजुरी मिल जाएगी।

न.प. अध्यक्ष मनोहर भटेवरा ने बताया कि एमआरएफ योजना से नगर का कचरा खत्म होकर इस समस्या से स्थाई निजात मिलेगी।

Post a Comment

Post Top Ad