Breaking

Friday, June 12, 2020

राजनीतिक बिषाद का सबसे छोटा प्यादा पार्षद किंतु जनता के लिए महत्वपूर्ण... प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री से अधिक भरोसा जनता को पार्षदों पर.... क्या पेटलावद में पार्षद अपनी भूमिका का निर्वहन कर पा रहे है?



समाचार20 से  वीरेंद्र भट्ट की रिपोर्ट

पेटलावद। पार्षद नगर विकास की धुरी रहते है किंतु वे अपने दायित्व के निर्वहन में असफल होते है तो पूरा नगर उससे प्रभावीत होता है और बुरी तरह से अपने आप को ठगा हुआ महसूस करता है। जनप्रतिनिधि का पद प्राप्त होने के बाद किसी भी पार्षद का यह जवाब की मुझे जिसने वोट दिया उसी की सुनूंगा यह लोकतंत्र की हत्या के समान है। पार्षद को अपने पूरे वार्ड के प्रतिएक नागरिक के प्रति पूरी तरह जवाबदार होना होगा। चाहे उसने उसे वोट दिया हो या नहीं दिया हो। क्योंकि आप पूरे वार्ड के पार्षद है। केवल वोट देने वालों के पार्षद या जनप्रतिनिधि नहीं है।
पेटलावद नगर इन दिनों कई समस्याओं से रूबरू हो रहा है। इन समस्याओं के बीच उन्हें उनके सबसे बडे हमदर्द पार्षद रूपी जनप्रतिनिधि की आवश्यकता है जो की उनकी छोटी बडी समस्याओं का निराकरण कर सके।समस्याएं केवल नगर परिषद को लेकर ही होती है।

कई बडे निर्णयों पर अमल नहीं।

नगर परिषद का कार्यकाल लगभग 2 वर्ष 8 माह का बीत चुका है किंतु अभी तक नगर परिषद ऐसे कई निर्णय है जिन पर आज तक कोई निर्णय नहीं ले पाई है। जिसके लिए पूछे जाने पर केवल कागजों पर अनुमोदन करना और उच्चाधिकारियों के द्वारा सहयोग नहीं करने का बहाना बना लिया जाता है। जिसमें मुख्य रूप से बस स्टेंड निर्माण को लेकर न तो अध्यक्ष न ही 15 पार्षद ऐसा कोई निर्णय कर पाए जिससे जनता को खुशी हो।
वहीं बालोद्यान का मामला भी आजतक परिषद सुलझा नहीं पाई है। केवल अध्यक्ष पर आरोप प्रत्यारोप करते पार्षद अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड रहे है।
प्रधानमंत्री आवास की किश्त दो वर्षो से केवल पेटलावद में अटकी पडी है। इसके लिए आखिर किसी भी पार्षद ने बैठक के अलावा कोई अन्य माध्यम से कोई आवाज नहीं उठाई अन्यथा इतने अधिक समय तक गरीबों को अपने अधिकारों से वंचित नहीं रहना पडता। केवल कलेक्टर पर आरोप प्रत्यारोप करने से आपकी जवाबदारी खत्म नहीं हो जाती है।
बारिश के पूर्व पानी निकासी।
नगर के हर वार्ड में इस समय एक ही समस्या उभर कर सामने आ रही है। बारिश के दिनों में जल भराव की स्थिति। नगर में पहली बारिश में ही वार्ड क्र.08 के कई घरों में पानी भर गया। किंतु जनप्रतिनिधियों के कान पर जू तक नहीं रेंगी। नगर का हर बाशिंदा अपने पार्षद से अपील कर रहा है कि वह अपने वार्ड में जहां पर जल भराव की स्थितियां उत्पन्न होती है उनका निराकरण करवाए। ताकी बारिश में किसी प्रकार की दुर्घटना का सामना न करना पडे।

नालियों की सफाई व उचित ढाल

नगर के अधिकांश वार्ड व क्षेत्र में नालियों की सफाई नियमित नहीं हो पा रही है। इसके लिए हम कर्मचारियों को दोष नहीं दे सकते है। इसके लिए हमारे वार्डो के पार्षदों को जागरूकता दिखाते हुए अपने वार्ड में सफाई की स्थिति पर हर समय अपनी पेनी निगाहे रखनी होगी। किंतु इस मामले में भी हमारे अधिकांश पार्षद सक्रिय नहीं दिखाई दे रहे है, जो की जनता के साथ सीधा सीधा धोखा है।

सोशल मिडिया व फेसबुक से बाहर कार्य करना होगा।

नगर के समस्त पार्षदों को यदि जनता की भलाई और अपनी जवाबदारी का सही निर्वहन करना है तो सोशल मिडिया की बहस बाजी और फेसबुक पर फोटो सेशन से बाहर निकल कर धरातल पर कुछ ऐसे कार्य करना होंगे जो की जनता के हितकर हो और पेटलावद का विकास हो। तभी जनता आप को सर आंखो पर बिठाएगी।
आज की स्थिति में जनता में नगर परिषद की छवि पूरी तरह नकारात्मक हो चुकी है। जिसे सुधारने के लिए परिषद के सभी सदस्यों को प्रयास करना होगा अन्यथा 2 वर्ष 4 माह बाद जनता स्वयं आपका निर्णय करेगी।

Post a Comment

Post Top Ad