Breaking

Friday, July 3, 2020

अंचल में आज शुक्रवार के दिन सुबह से ही अचानक मौसम में परिवर्तन हुआ

पेटलावद  जामली । अंचल में आज शुक्रवार के दिन सुबह से ही अचानक मौसम में परिवर्तन हुआ और आसमान पर काले काले बादल छा गए थे ऐसा लग रहा था कि आज दिन भर बारिश होगी और ऐसा ही अनुमान सही साबित हो गया कभी तेज तो कभी बूंदाबांदी से बारिश का  सिलसिला शुरू हो गया जिससे अंचल मैं किसानों द्वारा बोई हुई फसलों को नया जीवनदान मिल गया फसलें बारिश की वजह से लहरा रही थी सुबह 6:30 बजे से बारिश का दौर शुरू हुआ तो समाचार लिखे जाने तक चलती रही जिससे पम्पावती नदी में पानी आ गया। किसान मिर्ची टमाटर के रोप लगाने के लिए खेतों की ओर निकल गए। ग्रामीणजनो के चेहरे पर खुशी साफ देखी जा रही है क्योंकि कहीं-कहीं पर बारिश नहीं होने से पूजा पाठ करने का दौर शुरू हो चुका था कहीं पर भगवान भोलेनाथ को जल मग्न कर रहे थे तो कहीं पर जिंदा व्यक्ति की शव यात्रा निकालकर टोटका कर रहे थे उनका ऐसा मानना था कि ऐसा करने से इंद्रदेव प्रसन्न हो जाते हैं और हमारे क्षेत्र में अच्छी बारिश शुरू कर देते है ग्रामीण जन अब बारिश से बचने के लिए हाथों में छाता लिए और रेनकोट पहने हुए दिखाई दे रहे थे 5 दिनों की उमस भरी गर्मी से राहत मिल गई है इस बारिश की वजह से मौसम में भी ठंडक से घुल गयीं है।


पेटलावाद से हरिश राठौड़ की रिपोर्ट

पेटलावद  जामली । अंचल में आज शुक्रवार के दिन सुबह से ही अचानक मौसम में परिवर्तन हुआ और आसमान पर काले काले बादल छा गए थे ऐसा लग रहा था कि आज दिन भर बारिश होगी और ऐसा ही अनुमान सही साबित हो गया कभी तेज तो कभी बूंदाबांदी से बारिश का  सिलसिला शुरू हो गया जिससे अंचल मैं किसानों द्वारा बोई हुई फसलों को नया जीवनदान मिल गया फसलें बारिश की वजह से लहरा रही थी सुबह 6:30 बजे से बारिश का दौर शुरू हुआ तो समाचार लिखे जाने तक चलती रही जिससे पम्पावती नदी में पानी आ गया। किसान मिर्ची टमाटर के रोप लगाने के लिए खेतों की ओर निकल गए। ग्रामीणजनो के चेहरे पर खुशी साफ देखी जा रही है क्योंकि कहीं-कहीं पर बारिश नहीं होने से पूजा पाठ करने का दौर शुरू हो चुका था कहीं पर भगवान भोलेनाथ को जल मग्न कर रहे थे तो कहीं पर जिंदा व्यक्ति की शव यात्रा निकालकर टोटका कर रहे थे उनका ऐसा मानना था कि ऐसा करने से इंद्रदेव प्रसन्न हो जाते हैं और हमारे क्षेत्र में अच्छी बारिश शुरू कर देते है ग्रामीण जन अब बारिश से बचने के लिए हाथों में छाता लिए और रेनकोट पहने हुए दिखाई दे रहे थे 5 दिनों की उमस भरी गर्मी से राहत मिल गई है इस बारिश की वजह से मौसम में भी ठंडक से घुल गयीं है।

👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇

समाचार एवं विज्ञापन के लिए सम्पर्क करें 

राज मेड़ा:- 7049735636

हरिश राठौड़:-+7974658311

Post a Comment